चीन को 'मेक इन इंडिया' के लिए राष्ट्रपति ने दिया निमंत्रण

नई दिल्ली (25 मई): राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने बुधवार को चीनी उद्यमियों को मेक-इन-इंडिया अभियान के तहत निवेश में शामिल होने के लिए आमंत्रित किया। उन्होंने कहा कि भारत चीन से निवेश के लिए रचनात्मक वातावरण उपलब्ध कराने के लिए प्रतिबद्ध है।

राष्ट्रपति इस समय अपने चार दिनों की चीन की यात्रा पर हैं। यात्रा पर उन्होंने कहा कि भारत का मानना है कि हमारे राष्ट्रों में आर्थिक और व्यापारिक सहयोग के लिए काफी क्षमता है। जिसके सामने कई तरह के अवसर और चुनौतियां हैं।

राष्ट्रपति ने भारत-चीन बिजनेस फोरम को संबोधित किया। यह कार्यक्रम ग्वांगझोऊ प्रांत में आयोजित हुआ। इसमें दोनों देशों की तरफ से उद्योगपतियों और व्यापारी शामिल हुए।

राष्ट्रपति ने कहा कि भारत-चीन के बीच द्विपक्षीय व्यापार इस सदी में काफी बढ़ा है। 2000 में यह व्यापार 2.91 बिलियन डॉलर (करीब 196 अरब रुपए) का था। जो पिछले साल 71 बिलियन डॉलर (करीब 4781.5 अरब रुपए) तक पहुंच गया है।

मुखर्जी ने कहा, "हमारे आर्थिक सहभागिता की पूर्ण क्षमता को जानने के लिए व्यापारिक समुदायों के बीच सूचनाओं के अंतर को दूर करना होगा। भारत चीन की तरफ से निवेश के लिए रचनात्मक वातावरण प्रदान करने के लिए प्रतिबद्ध है।"