आजादी के दिन आतंकियों से लड़ते-लड़ते शहीद हो गया लाल

नई दिल्ली (16 अगस्त): झारखंड के जामताड़ा में सीआरपीएफ के कमांडेंट शहीद प्रमोद कुमार त्रिपाठी के घर मातम पसरा है। मां और पत्नी का रो-रोकर बुरा हाल है। नन्हीं सी बच्ची के सिर से पिता का साया उठ गया। शहीद प्रमोद घर में इकलौते कमाने वाले थे, अब उनका परिवार बेसहारा हो गया है। 

आपको बता दें कि सोमवार को जब पूरा हिंदुस्तान आजादी का जश्न मना रहा था, तभी सरहद पार से नापाक साजिश रची गई। आतंकियों ने श्रीनगर के नौहट्टा चौक में सुरक्षाबलों पर हमला कर दिया। इसमें सीआरपीएफ के कमांडेंट प्रमोद कुमार शहीद हो गए थे। 6 जवान जख्मी हैं। वहीं जवाबी कार्रवाई में सुरक्षाबलों ने दो आतंकियों को ढेर कर दिया।