प्रचण्ड ने ओली सरकार के खिलाफ संसद में फिर खोला मोर्चा

नई दिल्ली (12मई): केपी शर्मा ओली के नेतृत्व वाली नेपाली गठबंधन सरकार में साझीदार दल यूसीपीएन-एम के अध्यक्ष पुष्प कमल दहल 'प्रचण्ड' ने एक बार फिर मोर्चा खोल दिया है। प्रचण्ड ने कहा है कि सरकार की नीतियां और कार्यक्रम देश में स्थिरता और शांति बहाली में नाकामयाब रही हैं। प्रचण्ड ने यह बयान सदन में उस वक्त दिया है जब ओली सरकार भारत सरकार के साथ संबंधों में आयी दरार के लिए भीतर और बाहरी दबाव से घिरी हुई है।

इससे पहले ओली की पार्टी सीपीएन-यूएमएल और प्रचण्ड की पार्टी यूसीपीएन-एम के बीच एक नौ सूत्रीय समझौते पर हस्ताक्षर भी हुए। इस समझौते में युद्ध कालीन मामलों में नामित सभी लोगों को आम माफी देना शामिल है। प्रचण्ड ने सदन के भीतर लोकल बॉडीज़ चुनावों को स्थगित करने का मुद्दा भी उठाया। उन्होंने कहा कि जब सभी राजनीतिक विषयों पर सहमति नहीं बन जाती तब तक चुनाव नहीं हो सकते। नेपाली कॉंग्रेस के नेता अर्जुन नरसिंह केसी ने भी सदन में कहा कि राष्ट्रपति बिध्या देवी भण्डारी ने सदन में सरकार की ओर से पॉलिसी और प्रोग्राम का मसौदा पेश किया है वो अनुपयोगी परियोजनाओं का पिटारा है। उन्होंने कहा कि इन सभी को कभी लागू नहीं किया जा सकता।