नेपाल में सत्ता परिवर्तन के आसार, ओली ने प्रचण्ड से की मुलाकात

नई दिल्ली (5 जून): नेपाल में सरकार छोड़ने के दबाव के बीच प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली ने आज (रविवार को)सीपीएन-एम प्रमुख प्रचंड से लंबी बात-चीत की। ओली के कार्यालय ने इस मुलाकात की पुष्टि करते बयान जारी किया कि दोनों नेताओँ के बीच सर्वसम्मति से राष्ट्रीय सरकार के गठन और नौ सूत्रीय सहमति पत्र सहित सभी ज्वलंत मुद्दों पर बात-चीत की। इससे पहले प्रचण्ड ने कहा था कि नेपाल के बड़े दलों के बीच सहमति बनती है, तो वह प्रधानमंत्री बनने के लिए तैयार हैं। साथ ही उन्होंने सत्ता के भूखे होने के आरोपों से इनकार किया है।

डोलखा जिले के मुख्यालय चारीकोट में कम्युनिस्ट पार्टी ऑफ नेपाल (माओवादी-सेंटर) के चौथे जिला सम्मेलन में उन्होंने कहा था कि,हर कोई आरोप लगाता है कि प्रचंड सत्ता का भूखा है, लेकिन यही प्रचंड है जिसने विद्या देवी भंडारी को राष्ट्रपति पद और केपी ओली को प्रधानमंत्री पद के लिए समर्थन किया। प्रचंड ने कहा कि अगर नेपाली कांग्रेस और मधेसी दलों को साथ लेकर राष्ट्रीय सरकार का गठन होता है वो नेतृत्व स्वीकार करने को तैयार हैं । उन्होंने कहा, अगर मैं प्रधानमंत्री बनता हूं तो भूकंप पीड़ितों को दी गई तीन लाख नेपाली रुपये की ऋण राशि को को राहत राशि में तब्दील करने की प्राथमिकता दूंगा। प्रचण्ड के इस बयान के बाद नेपाली जनता में उनका समर्थन और बढ़ गया है।