लैटिन अमेरिकी फिल्म में बिहारी बाबू बने सुपर स्टार

मुंबई (2 जनवरी): राजधानी पटना में पैदा हुए प्रभाकर शरण अपनी पहली स्पैनिश फिल्म 'एनरेडाडोस: ला कंफ्यूजन (  इनटेंगल्ड: द कंफ्यूजन) से अब लैटिन अमेरिकी फिल्म उद्योग के उभरते हुए कलाकार बन गए हैं। यह फिल्म कोस्टा रिका की पिछले साल की लोकप्रिय फिल्मों में से एक रही। इस फिल्म के बारे में कहा जाता है कि यह ऐसी पहली अमेरिकी फिल्म है जो बॉलीवुड स्टाइल में बनी है। इस फिल्म में बॉलीवुड की तरह ही नाच और गाने हैं। इसकी शूटिंग कोस्टा रिका, मुंबई और पनामा में हुई है। प्रभाकर ने बताया, “यह फिल्म लैटिन फिल्म उद्योग में सिर्फ एक फिल्म नहीं है बल्कि एक मील का पत्थर बन चुकी है।”

प्रभाकर के साथ इस फिल्म में मुख्य किरदार में नैन्सी डोबल्स हैं। वह यहां की टीवी होस्टेस हैं। प्रभाकर की योजना अपने ड्रीम प्रोजेक्ट को मार्च-अप्रैल में हिंदी, अंग्रेजी और भोजपुरी में 'एक चोर, दो मस्तीखोर' के नाम से रिलीज करने की है। यह फिल्म पिछले साल फरवरी में रिलीज हुई थी और यह छह देशों कोस्टा रिका, पनामा, निकारागुआ, होंडुरास, ग्वाटेमाला और सान सल्वाडोर में रिलीज हुई थी। यह फिल्म कमाई के हिसाब से भी काफी सफल रही।

प्रभाकर का कहना है कि इस फिल्म को बनाना इतना आसान नहीं था। वह साल 2000 में कोस्टा रिका पढ़ाई के लिए आए थे और पढ़ाई खत्म करने के बाद वहां कपड़े और रेस्त्रां के कारोबार से जुड़ गए। साल 2006 से वह बॉलीवुड फिल्मों को कोस्टा रिका के थियेटर में लेकर आने लगे। उन्होंने कहा कि पहली बार उनकी ही कंपनी मध्य अमेरिका में बॉलीवुड फिल्मों को कारोबार के लिए लेकर आई थी।