बदल गये हैं नियम...डाकघर में सेविंग्स एकाउंट है तो आपके लिए यह खबर पढ़ना जरूरी है

न्यूज24 ब्यूरो, नई दिल्ली (11 जून): बैंको की अपेक्षा पोस्ट ऑफिस में ज्यादा औपचारिकताएं होने और खाता धारकों की मृत्यु के बाद पैसे निकालने में आने वाली अड़चनों को खत्म कर दिया गया है। मोदी सरकार ने पोस्टऑफिस के खाता धारकों के एकाउंट्स सैटलमेंट और विदड्रॉवल के नियमों को बेहद आसान बना दिया है। सरकार ने कहा है कि अगर खाता धारक की मृत्यु किसी को नॉमिनी बनाये बिना भी हो जाती है तो भी खाता धारक के सबसे नजदीकी रिश्तेदार या परिजन को उसका क्लेम आसानी से मिल सकता है।डिपार्टमेंट ऑफ पोस्ट्स ने 20 मई, 2019 को एक आदेश जारी कर पोस्ट ऑफिस सेविंग्स स्कीम में किसी मृतक के पैसों पर दावा करने के लिए विभिन्न अथॉरिटीज की ताकत में सुधार किए। इस आदेश में किसी नॉमिनी के रजिस्टर न होने और कोई लीगल एविडेंस उपलब्ध न होने सबंधी आदेश भी शामिल है।इस आदेश में यह भी स्पष्ट किया गया है कि किसी मृतक के निवेश को उसके उत्तराधिकारी को भुगतान करने से पहले अथॉरिटी को कितना इंतजार करना चाहिए। इन नियमों को तत्काल प्रभाव से लागू कर दिया गया है। नए नियमों के मुताबिक, अगर पोस्ट ऑफिस में निवेश करने वाले किसी व्यक्ति की मौत हो जाती है और उसने किसी नॉमिनी को रजिस्टर नहीं किया है तो अथॉरिटी को नीचे दी गईं लिमिट्स के आधार पर बिना कोई लीगल एविडंट के ही दावे को सेंक्शन कर सकती हैं।नए नियम के मुताबिक, 'कोई उत्तराधिकारी सर्टिफिकेट या विल की कॉपी या मृतक की संपत्ति का कोई पत्र नहीं मिलता है, तो नीचे मेंशन की गईं अथॉरिटीज के पास यह अधिकार है कि व्यक्ति की मौत के 6 महीने बाद, बिना किसी कानूनी सबूत के पैसे के दावे को स्वीकार कर ले।

Images Courtesy:Google