केजरीवाल के दावों की खुली पोल, ऑड-ईवन के दिनों में दिल्ली में बढ़ा पॉल्यूशन

नई दिल्ली (18 जनवरी): राजधानी में ऑड-ईवन के 15 दिनों के दौरान पॉल्यूशन का स्तर कम होने के बजाय बढ़ गया। यह खुलासा एक सर्वे के बाद हुआ है। इस सर्वे के बाद सीएम केजरीवाल के सभी दावे झूठे साबित होते नजर आ रहे हैं। केजरीवाल सरकार ने शुक्रवार को दावा किया था कि इस स्कीम को लागू करने के बाद पॉल्यूशन में 20-25% तक कमी आई है।

वेब पोर्टल इंडिया स्पेंड के सर्वे के मुताबिक इन 15 दिनों में दिल्ली की हवा बहुत खराब रही। इस दौरान पॉल्यूशन लेवल दिसंबर के अंतिम 15 दिनों के मुकाबले 15% बढ़ गया। ट्रायल से पहले के दिनों में पॉल्यूशन लेवल PM2.5 का एवरेज 270 था जबकि ऑड-ईवन के दौरान यह बढ़कर 309 तक पहुंच गया। WHO के मुताबिक, हवा में इनका नंबर 60 से कम होना चाहिए। पोर्टल के मुताबिक, दिसंबर के अंतिम हफ्ते की तुलना में जनवरी के पहले हफ्ते में PM2.5 का लेवल 50% बढ़ गया था।

ऑड-ईवन ट्रायल के बाद लगा जाम ऑड-ईवन का ट्रायल खत्म होते ही सड़कों पर लोगों को भारी जाम का सामना करना पड़ा। हालांकि सेंट्रल दिल्ली में इस जाम का कारण 26 जनवरी की परेड रिहर्सल भी रहा। इसके कारण राजपथ पर विजय चौक से इंडिया गेट तक इसके कारण ट्रैफिक रिस्ट्रिक्शन लगा है। वहीं बीआरटी कॉरीडोर, मथुरा रोड पर भारी जाम की खबर है।