Blog single photo

चुनाव प्रचार का अंतिम दिन, 21 अक्तूबर को इवीएम में कैद होगी प्रत्याशियों की किस्मत

महाराष्ट्र और हरियाणा विधानसभा चुनाव का जोर शोर पूरे देश में देखने को मिल रहा है। चुनाव प्रचार करने के लिए राजनीतिक दलों के पास आज अंतिम दिन है।

न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली(19 अक्टूबर): महाराष्ट्र और हरियाणा विधानसभा चुनाव का जोर शोर पूरे देश में देखने को मिल रहा है। चुनाव प्रचार करने के लिए राजनीतिक दलों के पास आज अंतिम दिन है। चुनाव में जीत हासिल करने के लिए आज सारे ही राजनीतिक दल कोई कसर अधूरी छोड़ना नहीं चाहेंगे। पीएम मोदी सहित बीजेपी के दिग्गज नेता भी शनिवार को चुनावी जनसभा करेंगे। वहीं बीजेपी को कड़ी टक्कर देने के लिए कांग्रेस के दिग्गज नेता भी चुनाव प्रचार में कोई कसर नहीं छोड़ रहे हैं, प्रचार के अंतिम दिन कांग्रेस के बड़े नेता पूरा जोर लगाएंगे। महाराष्ट्र में विधानसभा की 288 जबकि हरियाणा में 90 सीटे हैं। इसके अलावा, देश के अलग-अलग राज्यों में 64 विधानसभा सीटों पर उपचुनाव भी है।

21 अक्तूबर को मतदान है। यूपी विधानसभा की 11 सीटों पर उपचुनाव के लिए 110 उम्मीदवार मैदान में हैं। प्रदेश में सहानपुर की गंगोह, रामपुर जिले की रामपुर, अलीगढ़ की इगलास, लखनऊ की कैंट, कानपुर नगर की गोविंद नगर, चित्रकूट की मानिकपुर, प्रतापगढ़ की प्रतापगढ़, बाराबंकी की जैदपुर, आंबेडकर नगर की जलालपुर, बहराइच की बलहा और मऊ जिले की घोसी विधानसभा सीट पर उपचुनाव होना है।

भाजपा उम्मीदवारों के समर्थन में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, भाजपा प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह, महामंत्री संगठन सुनील बंसल और प्रदेश सरकार के मंत्रियों ने चुनावी सभाएं और बैठकें की हैं। वहीं कांग्रेस के लिए प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू और सपा के लिए प्रदेश अध्यक्ष नरेश उत्तम पटेल सहित अन्य नेताओं ने भी प्रचार किया है।

हरियाणा की 90 विधानसभा सीटों के लिए 21 अक्तूबर को सुबह 7 बजे से शाम 6 बजे तक वोटिंग होगी। हरियाणा के मुख्य निर्वाचन अधिकारी अनुराग अग्रवाल ने बताया कि लोक प्रतिनिधित्व अधिनियम, 1951 की धारा 126 के तहत मतदान की समाप्ति के लिए नियत किए गए समय के साथ समाप्त होने वाले 48 घंटों की समयावधि के दौरान किसी भी तरह का प्रचार-प्रसार बंद हो जाता है।

हिमाचल के धर्मशाला और पच्छाद विधानसभा क्षेत्रों में 21 अक्तूबर को होने वाले उपचुनाव से पहले शनिवार को चुनावी शोर थम जाएगा। रविवार को प्रत्याशी और कार्यकर्ता डोर-टू-डोर प्रचार करेंगे। प्रचार के बंद होने के बाद जिले से बाहर के नेता तत्काल जिला छोड़ देंगे।

Tags :

NEXT STORY
Top