चुनाव आया तोहफे लाया: पंजाब में पॉलिटिकल पार्टियों का 'फ्री ऑफर', जानिए क्या मिलेगा इस बार...

डॉ. संदीप कोहली,

नई दिल्ली (27 जनवरी): चुनाव आते ही हर राजनीतिक दल मतदाताओं को लुभाने के लिए फ्री ऑफर्स देते हैं। ऑफर्स फ्री कलर टीवी, स्मार्टफोन, लैपटॉप और साइकिल से लेकर दाल, चावल, घी, प्रेशर कूकर, गैस स्टोव यहां तक की मंगलसूत्र तक हो सकते हैं। अपने-अपने घोषणा पत्रों में इन लोकलुभावन वादों के बल पर मतदाताओं को लुभाया जाता है। कई बार कुछ वादे तो पूरे हो जाते हैं लेकिन ज्यादातर वोटर्स अपने को ठगा ही महसूस करते हैं। दक्षिण भारत से चली ये प्रथा उत्तर भारत में पहुंच चुकी है। ऐसा ही चुनावी लॉलीपॉप पंजाब विधानसभा चुनाव में मतदाताओं को थमाया जा रहा है। हर पॉलिटिकल पार्टी वोटर्स को लुभाने के लिए अपने-अपने घोषणा पत्र में कुछ ऐसे ही वादे कर रही है। अब सवाल उठेगा की ये वादे होंगे कैसे पूरे? पंजाब एक समय का खुशहाल राज्य, आज उसकी माली हालत खराब है। सियासी पार्टियों ने हजारों करोड़ों के वादे तो कर दिए हैं लेकिन उनको पूरा करना आसान नहीं होगा। पंजाब पर आज 1.30 लाख करोड़ रुपये का केंद्र सरकार का कर्ज है जो पिछले साल के मुकाबले 5.5 हजार करोड़ बढ़ गया है। पंजाब की हालत ये है कि कर्ज चुकाने के लिए सरकार को और कर्ज लेना पड़ रहा है। लेकिन चुनावी मैदान में मौजूद चारों राजनीतिक दलों को इससे क्या उन्हें तो सिर्फ वोट लेने हैं। आइए जानते हैं किस पार्टी का क्या फ्री ऑफर्स है-

कांग्रेस, आप, बीजेपी और अकाली दल के लोकलुभावन चुनावी वादे...

1- किसान के लिए

कांग्रेस :

- किसानों का पूरा कर्ज माफ होगा, जमीन की कुर्की नहीं होगी।

- आर्थिक और सामाजिक सुरक्षा का वादा।

- बिजली दरों में कटौती करने के साथ ही किसानों को लोन में राहत देने के वादा।

आप :

- 2018 के अंत तक यहां के किसान कर्ज मुक्त हो जाएंगे।

- सूखा पड़ने की हालत में किसानों को 20000 रुपये प्रति एकड़ मुआवजा देने की घोषणा की है।

- किसानों को 12 घंटे बिजली और मुफ्त मेडिकल सुविधा देने का वादा।

अकाली दल :

- 2.5 एकड़ तक ज़मीन वाले किसानों का क़र्ज़ माफ़।

- छोटे किसानों को हर साल 2 साल का ब्याज मुक्त लोन।

- किसानों को हर दिन 10 घंटे मुफ़्त बिजली।

- हर किसान को ट्यूबवेल।

बीजेपी :

-  ढाई एकड़ से कम जमीन वाले किसानों के कर्ज माफ किए जाएंगे।

-  किसानों की आमदन यकीनी बनाने के लिए किसान आमदन आयोग और जैविक खेती बोर्ड का गठन किया जाएगा।

-  छोटे किसानों, गरीब, दलित और पिछड़े वर्ग को दी जा रही शगुन स्कीम को जारी रखते हुए शगुन राशि 51 हजार रुपये तक की जाएगी।

-  छोटे किसान, दलित, पिछड़े व कमजोर वर्ग से संबंधित परिवारों में आकस्मिक मौत पर मुआवजा राशि 5 लाख से बढ़ाकर होगी 10 लाख

2- बेरोजगारों और युवाओं के लिए

कांग्रेस :

- हर घर को कम से कम एक रोजगार।

- अगले 5 साल में 25 लाख नई नौकरियों का अवसर।

- राज्य के सभी बेरोजगारों को नौकरी मिल सके।

- औद्योगिक निवेशकों के लिए स्थानीय युवाओं की भर्ती को अनिवार्य किया जाएगा।

- बेरोजगार युवाओं को हर साल रियायती दरों पर एक लाख टैक्सी, कमर्शियल व अन्य वाहन मुहैया करवाया जाएगा।

- वहीं बेरोजगार युवाओं को 25000 ट्रैक्टर और अन्य औजार मुहैया करवाए जाएंगे।

- इसके अलावा युवाओं को फ्री में स्मार्टफोन और बच्चों को फ्री में किताबें दी जाएंगी।

आप :

- पांच साल में 25 लाख नौकरियां।

- शिक्षकों के 30 हजार खाली पदों पर भर्ती की जाएगी।

- शहर, गांव, कॉलेज क वाई-फाई फ्री करने का वादा किया गा है।

- नशे के खात्मे और युवाओं को पुनर्वास की बात कही गई है।

- सरकारी नौकरी के लिए ऐप्लिकेशन फीस खत्म करने का वादा किया है।

- साथ ही साथ उच्च शिक्षा के लिए बिना गारंटी 10 लाख रुपये का लोन देने का वादा किया है।

- सरकारी नौकरियों में इंटरव्यू खत्म कर दिए जाएंगे और मेरिट के आधार पर युवाओं को नौकरी दिया जाएगा।

- उन्होंने पंजाब ओलिंपिक मिशन के जरिये खेल को मूवमेंट बनाने का वादा किया है।

अकाली दल :

- 20 लाख नौजवानों को रोज़गार देंगे।

- 50,000 युवाओं को बगैर अग्रिम भुगतान के टैक्सियां खरीदने में सक्षम बनाएगी।

- सरकारी रोजगार मुहैया कराएंगे और 20 लाख नौकरियों के वादा।

- पर्यटन एवं औद्योगिक क्षेत्रों में नई नौकरियां के अवसर निकालेंगे।

बीजेपी :

- एक परिवार, एक रोजगार

-  मजदूरों की दिहाड़ी को बढ़ाने का वायदा करते हुए कच्चे कर्मचारियों को नियमित किया जाएगा और सरकारी कर्मचारियों की रिटायरमेंट उम्र 60 वर्ष की जाएगी।

- विदेश पढ़ाई के लिए दलित और गरीब परिवारों को 15 लाख रुपये तक की सहायता दी जाएगी

- गरीब परिवारों की बेटियों को पीएचडी करने तक मुफ्त शिक्षा दी जाएगी।

- बड़ी गिनती में मैरीटोरियस स्कूल खोले जाएंगे

- 80 फीसदी से अधिक नंबर लेने वाले स्टूडेंट्स को मुफ्त शिक्षा दी जाएगी।

- एडेड स्कूलों में अध्यापकों की भर्ती और हर तहसील स्तर पर आईटीआई स्थापित की जाएगी।

4- दलितों के लिए

कांग्रेस :

- 5 लाख रुपये से कम वार्षिक आय रखने वाले इन श्रेणियों से संबंधित बेघर परिवारों को मुफ्त घर या 5 मरला जमीन देना।

- सरकारी नौकरियों में अनुसूचित जातियों के आरक्षण को सख्ती से लागू करना, प्रत्येक एस.सी परिवार से कम से कम एक व्यक्ति को नौकरी देना।

- ओ.बी.सी वर्ग के लिए सरकारी नौकरियों में आरक्षण को बढ़ाकर 12 से 15 प्रतिशत करना।

- शिक्षण संस्थाओं में ओ.बी.सी. आरक्षण को दोगुणा किया जाएगा (5 से 10 प्रतिशत करना)।

- अल्पसंख्यकों के लिए स्व: रोजगार गतिविधियों पर लोन माफी।

आप :

- आम आदमी पार्टी की सरकार बनी तो हर दलित को पक्का घर मिलेगा।

- पंजाब के दलितों से जो हाई स्कूल से ज्यादा पढ़े हैं उनके लिए स्कॉलर स्कीम का फायदा पहुंचाने के लिए स्पेशल सेल बनाने की बात कही है।

- इसके अलावा दलितों के लिए एसआइटी गठित करने का वादा किया गया है।

- सरकारी नौकरी में दलितों को आरक्षण, दलितों को व्यापार करने के लिए बिना किसी गारंटी के 2 लाख रुपये तक लोन

- फसल नुकसान होने पर हर महीने 10,000 रुपये का मुआवजा और दलितों की बेटियों की शादी में 51000 रुपये का शगुन देने का वादा किया है।

अकाली दल :

- दलितों की पेंशन में 2000 रुपए की बढ़ोतरी

- शगन स्कीम की रकम बढ़ाकर 51000 रुपए

बीजेपी :

- दुर्घटना बीमा राशि पांच लाख से बढ़ाकर 10 लाख और सेहत बीमा राशि 50 हजार से बढ़ाकर 1 लाख करने का संकल्प।

- विदेश पढ़ाई के लिए दलित और गरीब परिवारों को 15 लाख रुपये तक की सहायता दी जाएगी।

- हर बेघर दलित, पिछड़े व गरीब परिवारों को 5 से 8 मरले तक के प्लाट देने की योजना है और गरीबों के कच्चे मकानों को पक्का करवाया जाएगा।

- छोटे किसानों, गरीब, दलित और पिछड़े वर्ग को दी जा रही शगुन स्कीम को जारी रखते हुए शगुन राशि 51 हजार रुपये तक की जाएगी।

5- लोकलुभावन वादे

कांग्रेस :

- गरीबों को पांच रुपये में भरपेट भोजन।

- गरीबों को आटा-दाल के साथ चीनी और चायपत्ती देने का वादा।

- बेरोजगार युवकों को 2,500 रुपये मासिक भत्ता देने का वादा।

- छात्रों को मुफ्त स्मार्टफोन।

- नौकरियों और शिक्षण संस्थानों में महिलाओं को 33% आरक्षण।

- बेघर दलितों को मुफ्त में आवास मुहैया कराने का वादा।

- केजी से पीएचडी तक लड़कियों को मुफ्त शिक्षा।

- वीआईपी कल्चर को खत्‍म करने का वादा किया है पार्टी का कोई भी विधायक, मंत्री, सांसद या बड़ा नेता लाल बत्ती नहीं लाएगा।

आप :

- पांच रुपये में खाना।

- 400 यूनिट तक का बिजली बिल आधा माफ।

- गांव-शहर में हेल्थ क्लीनिक, फ्री होंगे टेस्ट।

- 8वीं तक के बच्चों को फ्री लैपटॉप।

- सभी स्कूलों में सीसीटीवी कैमरे।

- सामाजिक सुरक्षा पेंशन को बढ़ाकर 2500 तक किया जाएगा।

- एनआरआई की जमीन पर हुआ कब्जा खत्म किया जाएगा।

- नए वकीलों को 5000 रुपये की आर्थिक मदद दी जाएगी।

- बिस्तर पर पड़े विकलांग मरीजों को 5,000 रुपये महीने की मदद दी जाएगी।

- वीआईपी कल्चर को खत्‍म करने का वादा किया है और कहा है कि एमरजेंसी व्‍हीकल्‍स के अलावा लालबत्ती के यूज पर रोक लगेगी।

अकाली दल :

- गरीबों को  फ़्री प्रेशर कूकर, गैस स्टोव, फ़्री गैस कनेक्शन।

- 10 रुपये की दर से 5 किलो चीनी।

- 25 रु की दर से 2 किलो घी।

- शगुन की राशि 15,000 से बढ़ाकर 51,000।

- सेहत बीमा योजना की राशि 50000 से बढ़ाकर 1 लाख।

- हर वॉर्ड में मुफ़्त दवा दुकान।

- बेघरों के लिए घर।

- कच्चा मकान को पक्का बनाया जाएगा।

- दसवीं पास लड़कियों को सिलाई मशीन।

- अमेरिका, कनाडा और दूसरे देशों में 1 लाख एकड़ जमीन खरीदेगा। जो पंजाबी देश के बाहर खेती करना चाहते हैं उसमें सरकार मदद भी करेगी।

बीजेपी :

- हर गरीब को घर

- दलित तथा पिछड़े परिवारों को 5 से 8 मरले के प्लॉट

- शगुन स्कीम की राशि की जाएगी 51 हजार

- आटा-दाल स्कीम में जुड़ेगा 2 किलो देसी घी तथा 5 किलो चीनी

- गरीब परिवारों की बेटियों को पीएचडी तक मुफ्त शिक्षा

पंजाब पर कितना कर्ज...

पंजाब में 4 लाख से ज्यादा कर्मचारी और पेंशनभोगी हैं। इसके अलावा इसके निगमों और बोर्ड में 1.25 लाख कर्मचारी हैं। राज्य में सालाना वेतन और पेंशन का खर्च करीब 25,000 करोड़ रुपये आता है। राज्य के वित्त मंत्री खुद कहते रहे हैं कि वेतन और पेंशन में राजस्व प्राप्तियों का 65 फीसदी से ज्यादा खर्चा हो जाता है ऐसे में विकास के लिए काफी कम पैसे बचते हैं। राज्य की अर्थव्यवस्था पर दबाव है और पंजाब का सालाना कर्ज 2016-17 में 1.30 लाख करोड़ रुपये हो गया जो 2015-16 में 124, 553 करोड़ रुपये था।