'मंथन' के मंच पर जुटे राजनीति के धुर विरोधी

नई दिल्ली (10 मार्च): बीएजी फिल्म एंड मीडिया लिमिटेड के मीडिया इंस्टीट्यूट आईसोम्स (ISOMES) के तीन दिवसीय फेस्ट'मीडिया फेस्ट 24 मंथन' के दूसरे दिन राजनीति के धुर विरोधी एक ही मंच पर जुटे। 'मीडिया एजेंडा तय करता है' पर गरमा-गरम बहस में भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय प्रवक्ता संबित पात्रा, आम आदमी पार्टी के नेता संजय सिंह और अभिनेता से नेता बने कांग्रेस के राजबब्बर ने अपनी-अपनी राय रखी।

डिबेट की शुरूआत में संबित पात्रा ने कहा कि मीडिया तेजी से बदल रहा है। हाल के दौर में मीडिया जिसे टीवी चैनल और अखबार माना जाता है, उस पर नजर रखने के लिए उसकी 'मां' के तौर पर सोशल मीडिया तैयार हो गया है। पेशे से डॉक्टर संबित ने देश को बॉडी और मीडिया को सेंस ऑर्गन बताया। उन्होंने कहा कि स्वस्थ देश के लिए मीडिया का मजबूत होना बेहद जरूरी है।

संबित ने कहा कि हाल के दौर में ऐसा लगता है कि मीडिया तो नहीं, सोशल मीडिया जरूर मुद्दे तय करता है। बहस के दौरान जेएनयू का मुद्दा उठा तो, बीजेपी प्रवक्ता ने उन आरोपों को बेबुनियाद ठहराया, जिनमें कहा जा रहा है कि सरकार अपनी मानसिकता शिक्षण संस्थानों पर थोपने की कोशिश कर रही है।

कन्हैया के कश्मीर पर दिए बयान पर पूछे गए एक सवाल पर बहस गरमागई। बीजेपी प्रवक्ता ने कहा कि  कश्मीर भारत का अंग है और उसे किसी भी कीमत पर अलग नहीं होने देंगे। इस पर आम आदमी पार्टी के नेता संजय सिंह ने केंद्र सरकार की नाकामी गिनाते हुए कहा कि आज तक सरकार उन गुनहगारों को नहीं पकड़ पाई, जिन्होंने जेएनयू कैंपस में राष्ट्र विरोधी नारे लगाए थे।

संजय सिंह ने कहा कि लोकतंत्र के चार स्तंभ हैं और उन पर नजर रखने का काम मीडिया का है। इसी वजह से आज का मीडिया बहुत सशक्त होता जा रहा है। सोशल मीडिया की भूमिका को भी नकारा नहीं जा सकता। संजय सिंह ने कहा कि कई बार सोशल मीडिया पर पेड टीमें गलत शब्दों का प्रयोग करती हैं। ऐसा करना सभ्य समाज के लिए अच्छा नहीं है।

कांग्रेस के नेता राजब्बर ने कहा कि प्रजातंत्र के सभी स्तंभों का अपना-अपना स्थान है। चारों को अपना-अपना काम करना चाहिए,पर सामाजिक सरोकार का ध्यान रखते हुए। उन्होंने कहा कि अगर मीडिया खुद को किसी राजनीतिक दल या व्यक्ति विशेष से जोड़ लेता है तो उसे आर्थिक फायदा जरूर होता है, लेकिन समाज में अपनी विश्वसनियता खो देता है।

बीएजी के मीडिया इंस्टीट्यूट- आईसोम्स के भावी पत्रकारों से राजब्बर ने कहा कि आज के युवा पत्रकारों के लिए जरूरी है कि सच का साथ दें। उन्हें खुद भी निर्णय करना होगा कि किस का साथ दिया जाए और किसका नहीं। इस मौके पर बीएजी फिल्म एंड मीडिया लिमिटेड की एमडी अनुराधा प्रसाद ने कहा कि किसी भी खबर की तह तक जाना हर मीडियाकर्मी का हक और कर्तव्य है।