साइबर कैफों में पोर्न देख रहे नाबालिगों पर पुलिस ने छापा मारा

नई दिल्ली (15 दिसंबर): शहर में साइबर कैफे के खिलाफ चले छापेमारी अभियान में पुलिस ने दर्जनों नाबालिगों और कैफे मालिकों की धरपकड़ की। दरअसल जिन कैफेज पर बच्चे पॉर्न देखते पाए गए, उन्हें इस अभियान के अंतर्गत पकड़ा गया व इन 'भटके हुए बच्चों' की मीडिया के सामने परेड भी करवाई गई।

पुलिस का कहना है कि काफी लंबे वक्त से अभिभावकों की तरफ से शिकायतें मिल रही थीं। अभिभावकों ने इस ओर कई बार ध्यान दिलाया था कि बच्चे कुछ साइबर कैफेज पर स्कूल असाइमेंट करने आदि के बहाने जाते हैं व वहां पॉर्न देखते हैं। मंगलवार को पुलिस की स्पेशल टीम ने करीब 92 इंटरनेट कैफेज पर छापेमारी की। इस छापेमारी में 47 बच्चों को पॉर्न देखते धरा गया। बताया गया कि ये बच्चे 12-16 साल के हैं। पुलिस का कहना है कि इस तरह की मुहिम पहली बार चलाई गई है।

पुलिस ने करीब इंटरनेट सेंटर मालिकों के खिलाफ 37 केस दर्ज किए हैं। इनमें से 16 के खिलाफ आईपीसी की धारा 292 (अश्लील कॉन्टेंट की बिक्री सम्बंधी) के तहत केस दर्ज हुआ है। बाकियों पर आईपीसी की धारा 188 (आदेश की अवहेलना सम्बंधी) लगाई गई है व हैदराबाद सिटी पुलिस ऐक्ट के तहत इन्हें छह महीने जेल भी भेजा सकता है। डीसीपी ने बताया कि हम अन्य साइबर कैफे की तलाश में जुटे हैं, जो इस नाबालिगों को अपने यहां पॉर्न दिखा रहे हैं।