Blog single photo

ओडिशा: 10 कटे हुए हाथ मिलने से दहशत में लोग, मचा हड़कंप

ओडिशा के जाजपुर इलाके से एक दिल दहला देने वाली खबर सामने आ रही है। जी हां, यहां पर रविवार को दस कटे हुए हाथ बरामद हुए हैं। इस घटना के बाद इलाके में तनाव फैल गया। शुरुआती जांच के बाद पुलिस का कहना है कि ये हाथ 2006 में पुलिस फायरिंग में मारे गए आदिवासियों के हो सकते हैं।

न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली (19 नवंबर): ओडिशा के जाजपुर इलाके से एक दिल दहला देने वाली खबर सामने आ रही है। जी हां, यहां पर रविवार को दस कटे हुए हाथ बरामद हुए हैं। इस घटना के बाद इलाके में तनाव फैल गया। शुरुआती जांच के बाद पुलिस का कहना है कि ये हाथ 2006 में पुलिस फायरिंग में मारे गए आदिवासियों के हो सकते हैं। खबर के मुताबिक मामले की जांच की जा रही है और इलाके में भारी तादाद में पुलिसकर्मियों की तैनाती की गई है। पुलिस ने बताया कि कालिंगा नगर में स्टील प्लांट के लिए भूमि अधिग्रहण के खिलाफ आदिवासियों ने जनवरी, 2006 में प्रदर्शन किया था। इस मामले प्रदर्शनकारियों पर काबू पाने के लिए पुलिस को फायरिंग करनी पड़ी थी। इस घटना में 13 से ज्यादा आदिवासी मारे गए थे। बता दें कि मारे गए आदिवासियों का पोस्टमॉर्टम किया गया। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक पांच के शवों की शिनाख्त नहीं हो पाई थी इसलिए उनके हाथ काटकर उसकी उंगलियों के निशान लिए गए थे। प्रक्रिया पूरी होने के बाद आदिवासियों के परिवारों को ये हाथ दो साल पहले सौंपे गए थे लेकिन उन्होंने इन्हें लेने से इनकार कर दिया था। उन्होंने इन हाथों के डीएनए टेस्ट कराने की मांग की थी। इसलिए इन हाथों को एक मेडिकल बॉक्स में क्लब के अंदर रखा गया था। मीडिया से बात करते हुए एसपी सीएस मीना ने बताया कि शनिवार को कुछ शरारती तत्वों ने क्लब की खिड़की तोड़ी और अंदर दाखिल हुए। ये लोग यह मेडिकल बॉक्स उठाकर ले गए थे। इसी बॉक्स में दस हाथ रखे थे। शरारती तत्वों ने इसे जाजपुर में ले जाकर फेंक दिया। स्थानीय लोगों को ये हाथ मिले तो हड़कंप मच गया। आसपास इलाके में तनाव फैलने लगा। भारी पुलिस तैनात करके लोगों पर काबू पाया गया। हालांकि इस मामले में कोई एफआईआर दर्ज नहीं हुई है।


Get Breaking News First and Latest Updates from India and around the world on News24. Follow News24 and Download our - News24 Android App . Follow News24online.com on Twitter, YouTube, Instagram, Facebook, Telegram .

Tags :

Top