बुलंदशहर हिंसा: SIT ने 5 लोगों को किया गिरफ्तार

न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली ( 8 दिसंबर): बुलंदशहर हिंसा की जांच कर रही पुलिस ने अब इस मामले से जुड़े आरोपियों की धर-पकड़ शुरू कर दी है। हिंसा की घटना के बाद सामने आई विडियो फुटेज में से पहचान करते हुए एसआईटी ने शुक्रवार को पांच लोगों को गिरफ्तार किया है। इसके अलावा एक अन्य आरोपी की गिरफ्तारी के लिए पुलिस की एक टीम को जम्मू भेजा गया है। 

शुक्रवार शाम इस बारे में जानकारी देते हुए यूपी पुलिस के आईजी क्राइम एस के भगत ने बताया कि इस मामले में अब तक कुल 9 लोगों को गिरफ्तार किया गया है। हिंसा की घटना के बाद सामने आई विडियो फुटेज के आधार पर शनिवार को 5 लोगों को गिरफ्तार किया गया है। साथ ही हिंसा के आरोपी एक सैन्यकर्मी की गिरफ्तारी के लिए विशेष पुलिस टीम को जम्मू-कश्मीर भेजा गया है। जिस सैन्यकर्मी के लिए टीम को जम्मू रवाना किया गया है, हिंसा की घटना में उसकी भूमिका जल्द की एसआईटी के द्वारा स्पष्ट की जाएगी।  

इससे पहले मीडिया में आई खबरों में एसआईटी और एसटीएफ की जांच के हवाले से दावा किया गया था कि शहीद इंस्पेक्टर सुबोध कुमार को जम्मू में तैनात जीतू उर्फ फौजी ने गोली मारी थी। फौजी अपने गांव में छुट्टी पर आया हुआ था। इंस्पेक्टर को उसी की अवैध पिस्टल से गोली लगी है। घटना के बाद फौजी जम्मू भाग गया। मेरठ जोन के एडीजी ने इस खबर को खारिज कर दिया। एडीजी ने कहा, 'जीतू का नाम एफआईआर में दर्ज है और उसे पकड़ने टीमें जम्‍मू भेज दी गई है। जीतू सेना में है और जम्‍मू में तैनात है। वह 27 नामजद लोगों में से एक है। वह महाव गांव का रहने वाला है। सभी नामजद लोगों के खिलाफ जांच चल रही है।'  

आपको बता दें कि बीते सोमवार को बुलंदशहर में गोकशी के आरोप के बाद हिंसा भड़की थी। इस हिंसा में स्याना इंस्पेक्टर सुबोध सिंह की गोली लगने से मौत हो गई थी। घटना के तीन महीने पहले लिखे गए दो पैराग्राफ के इस पत्र में कहा गया था, 'उन्हें (इंस्पेक्टर सुबोध) और कुछ और दूसरे पुलिसवालों को यहां से तत्काल ट्रांसफर कर देना चाहिए। उनके खिलाफ विभागीय जांच कराई जाए।' इस पत्र के अंत में यह भी लिखा गया था कि यह मांग बीजेपी के सभी स्थानीय नेताओं की है।