पहली फिल्म जिसकी शूटिंग की निगरानी करेंगे पुलिस और CID अधिकारी

नई दिल्ली (3 मार्च): जोधपुर और जैसलमेर में विदेशी कलाकारों के साथ बिना अनुमति के फिल्म की शूटिंग के बाद विवादों में घिरी निर्देशक मिलन लूथरिया की फिल्म बादशाहो की आगामी शूटिंग अब पुलिस और खुफिया अधिकारियों की निगरानी में होगी। दरअसल, मिलन लूथरिया ने अजय देवगन और इमरान हाशमी के साथ विदेशी कलाकारों की जैसलमेर के प्रतिबंधित सीमा क्षेत्र रनाऊ में शूटिंग करने की अनुमती केंद्रीय गृह मंत्रालय से मांगी थी। इस पर मंत्रालय ने सशर्त अनुमति दे दी है। अब इस फिल्म की शूटिंग सीआईडी (खुफिया) और पुलिस के अधिकारियों की निगरानी में होगी।

 

जैसलमेर का रनाऊ गांव भारत-पाक सीमा से सटा हुआ आबादी क्षेत्र है और यहां किसी भी प्रकार की शूटिंग बिना अनुमति के नहीं की जा सकती। मिलन लूथरिया इस गांव में एक फाइट सीन शूट करने जा रहे हैं। शूटिंग की सशर्त अनुमति के बाद इमरान हाशमी के जल्द जैसलमेर पहुंचने की संभावना है, वहीं अजय देवगन एक-दो दिन बाद जैसलमेर पहुंचेंगे। इससे पूर्व राजस्थान के जोधपुर समेत कई स्थलों पर इस फिल्म के दृश्य फिल्माए जा चुके हैं। ये भी बताया जारहा है कि बालिविड की ये पहली फिल्म है जिसकी शूटिंग पुलिस के साथ-साथ खुफिया अधिकारियों की निगरानी में होगी।