चर्च में 'पोकेमोन गो' गेम खेलना ब्लॉगर को पड़ा भारी, हुई जेल

नई दिल्ली ( 12 मई ): रूस की एक अदालत ने एक ब्लॉगर द्वारा चर्च में 'पोकेमोन गो' खेलने पर साढ़े तीन साल कैद की सजा सुनाई है, लेकिन सजा को निलंबित रखा है।


रूस की एक अदालत ने गुरुवार को एक वीडियो ब्लॉगर को सजा सुनाई। रुसलन सोकोलोवस्की का कसूर यह है कि उसने यूट्यूब पर अपने चैनल में ऐसा वीडियो डाला जिसमें वह चर्च में जाकर पोकेमोन को पकड़ता है। साथ ही कहता है कि चर्च में पोकेमोन को ढूंढना आसान है, जीसस को ढूंढना मुश्किल।


ब्लॉगर पर आरोप है कि इससे चर्च पर आस्था रखने वालों के खिलाफ नफरत पैदा होती है। रुसलन को अगस्त 2016 में हिरासत में लिया गया था और उसे नौ महीने जेल व नजरबंदी में बिताने पड़े थे।


अदालत ने माना कि रुसलान के चैनल के कई वीडियो से धार्मिक भावनाओं को चोट पहुंची है। यह कट्टरपंथी हरकत है। वहीं ऐमनेस्टी इंटरनैशनल ने रूस से अपील की है कि रुसलान को बरी कर दिया जाए।