Blog single photo

गुलाम कश्मीर (POK) में सुरक्षाबलों का मुजफ्फराबाद प्रेस क्लब पर हमला, कई जख्मी

मंगलवार की शाम को सुरक्षाबलों के एक बड़े दस्ते ने मुजफ्फाराबाद प्रेस क्लब पर अचानक हमला बोल दिया और वहां प्रेस कॉन्फ्रेंस कर रहे पाकिस्तान नेशनल एलायंस के नेताओं पर लाठी डंडे बरसाने लगे। प्रेस कॉन्फ्रेंस में शामिल पत्रकारों को भी पुलिस वालों ने नहीं बख्शा। वो सुरक्षाबलों के हमले के शिकार हुए हैं।

आसिफ सुहाफ, न्यूज 24 ब्यूरो श्रीनगर (22 अक्टूबर): गुलाम कश्मीर (पीओके) में पाकिस्तान से आजादी की मांग को लेकर स्थानीय नगारिकों में बगावत की आग फैलती जा रही है। इससे पाकिस्तानी सरकार काफी घबराई हुई है। पाकिस्तानी सुरक्षाबलों की नजर में अब पीओके के जर्नलिस्ट भी शायद बागी हो चुके हैं। इसीलिए मंगलवार की शाम को सुरक्षाबलों के एक बड़े दस्ते ने मुजफ्फाराबाद प्रेस क्लब पर अचानक हमला बोल दिया और वहां प्रेस कॉन्फ्रेंस कर रहे पाकिस्तान नेशनल एलायंस के नेताओं पर लाठी डंडे बरसाने लगे। प्रेस कॉन्फ्रेंस में शामिल पत्रकारों को भी पुलिस वालों ने नहीं बख्शा। वो सुरक्षाबलों के हमले के शिकार हुए हैं।

इससे पहले मंगलवार की सुबह इसी एलायंस के नेतृत्व में पाकिस्तान से आजादी के लिए आजादी मार्च निकाला जा रहा था तभी सुरक्षाबलों ने अपना दमन चक्र शुरू कर दिया। जिसमें मौके पर ही कई लोगों की मौत हो गयी, लेकिन सुरक्षाबलों ने बताया कि 2 लोगों की ही मौत हुई है। इस दमन चक्र के दौरान 100 से ज्यादा लोग गंभीर रूप से घायल हुए थे।

केवल मुजफ्फराबाद ही नहीं गुलाम कश्मीर के कई अन्य हिस्सों के अलावा पूरे पाकिस्तान में बगावत की आग जोर पकड़ने लगी है।जिनसे निपटना इमरान सरकार के लिए भारी पड़ रहा है। इमरान सरकार ने राजधानी इस्लामाबाद में सेना को उतार दिया है। राजधानी की ओर आने वाले सभी मार्गों को कंटेनर लगाकर सील किया जा रहा है। कुछ जगहों पर छह फीट चौड़े और पांच फीट गहरे गड्ढे खुदवाये जा रहे हैं ताकि इमरान सरकार के खिलाफ प्रदर्शन करने आ रहे लोग शहर में न घुस सकें।

गुलाम कश्मीर के अलावा पाकिस्तान के बाकी हिस्सों में भी इमरान सरकार के खिलाफ बगावत की चिंगारी फूटना शुरू हो गयीं हैं। पाकिस्तान पीपल्स पार्टी (पीपीपी) के अध्यक्ष बिलावल भुट्टो जरदारी ने रविवार को जिन्ना स्नातकोत्तर चिकित्सा केंद्र (जेपीएमसी) के अपने दौरे के समय कहा कि संघीय सरकार देश को सही दिशा में चलाने के लिए सक्षम नहीं है। उन्होंने कहा कि यही कारण है कि पाकिस्तान में हर कोई न कोई सरकार की जन विरोधी नीतियों के खिलाफ आवाज उठा रहा था।

बिलावल ने कहा, ‘हर कोई इस कठपुतली सरकार से तंग आ गया है।’ मीडिया रिपोर्ट में उनके हवाले से कहा गया है, ‘प्रत्येक राजनीतिक दल और व्यापारी, शिक्षक, डॉक्टर तथा मजदूर सहित सभी तबकों के लोग, सरकार की नीतियों से नाखुश हैं। इससे मुझे लगता है कि इमरान खान अपना कार्यकाल पूरा नहीं कर पाएंगे।’

Images Courtesy:

Tags :

NEXT STORY
Top