Blog single photo

PNB घोटाला: नीरव मोदी का भारत लौटने से इनकार

तेरह हजार पांच सौ करोड़ रुपए के पीएनपी घोटाले में फरार चल रहे नीरव मोदी के वकील ने उसके भारत वापसी की किसी भी संभावना से इनकार कर दिया है। नीरव के वकील ने मनी लॉन्ड्रिंग एक्ट से जुड़े मामलों की सुनवाई करने वाली स्पेशल कोर्ट से कहा कि हीरा कारोबारी नीरव की वापसी इसलिए नहीं हो सकती

न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली (2 दिसंबर): तेरह हजार पांच सौ करोड़ रुपए के पीएनपी घोटाले में फरार चल रहे नीरव मोदी के वकील ने उसके भारत वापसी की किसी भी संभावना से इनकार कर दिया है। नीरव के वकील ने मनी लॉन्ड्रिंग एक्ट से जुड़े मामलों की सुनवाई करने वाली स्पेशल कोर्ट से कहा कि हीरा कारोबारी नीरव की वापसी इसलिए नहीं हो सकती क्योंकि भारत लौटने पर उसकी मॉब लिंचिंग होने यानी भीड़ द्वारा पीटकर हत्या किए जाने का खतरा है। हालांकि, कोर्ट ने नीरव के वकील की दलीलों को मानने से इनकार कर दिया।

ईडी ने नीरव मोदी के 'जान के खतरे' की दलील को इस मामले में 'अप्रासंगिक' बताया है। ईडी ने कहा है कि नीरव मोदी समन और ई-मेल प्राप्त करने के बावजूद जांच में सहयोग करने के लिए हाजिर नहीं हुआ। इससे यह पता चलता है कि वह भारत वापस आना ही नहीं चाहता। हालांकि, अग्रवाल ने कहा कि उनके मुवक्किल ने जांच एजेंसियों के ई-मेल का जवाब दिया था और 'सुरक्षा संबंधी कारणों' से वापस आने में असमर्थता जताई थी। उन्होंने कहा कि, 'नीरव मोदी ने सीबीआई और ईडी दोनों के लिए भेजे पत्र में कहा था कि उन्हें भारत में जान का खतरा है इसलिये वह जांच में शामिल नहीं हो सकते हैं।' नीरव ने अग्रवाल के माध्यम से कहा, 'भारत में मेरा (नीरव मोदी) 50 फुट ऊंचा पुतला फूंका गया। मेरी तुलना 'रावण' से की जा रही थी। मुझे बुराई के रूप में और बैंक धोखाधड़ी जीता जागता उदाहरण बनाकर पेश किया गया।' अग्रवाल ने दावा किया कि नीरव मोदी को भगोड़ा घोषित नहीं किया जा सकता है, क्योंकि जांच एजेंसी ने भगोड़ा आर्थिक अपराधी अधिनियम के तहत इस संबंध में जरूरी औपचारिकताएं पूरी नहीं की हैं।

साथ ही उन्होंने कहा, 'ईडी के नीरव मोदी को भगोड़ा घोषित करने का मुख्य कारण यह है कि वह एक जनवरी 2018 को संदिग्ध परिस्थितियों में देश छोड़कर चले गए। हालांकि, देश छोड़ने के समय उनके खिलाफ कोई आपराधिक मामला दर्ज नहीं था।' नीरव के वकील ने कहा, 'जांच एजेंसियां सिर्फ यह नहीं कह सकती कि उन्होंने संदिग्ध परिस्थितियों में देश छोड़ दिया। उन्हें यह बताने की जरूरत है कि वे कौन-सी परिस्थितियां थी। उनके पास यह साबित करने के लिए कोई सामग्री नहीं है कि नीरव ने देश लौटने से मना कर रहे हैं।' अग्रवाल ने दलील दी कि शराब कारोबारी विजय माल्य की तरह नीरव मोदी का कोई खाता एनपीए नहीं हुआ था जब उन्होंने देश छोड़ा।

Tags :

NEXT STORY
Top