PNB को भारतीय बैंकिंग इतिहास का सबसे बड़ा घाटा

नई दिल्ली (18 मई): वित्त वर्ष 2016 की चौथी तिमाही में पीएनबी को 5367 करोड़ रुपये का घाटा हुआ है। भारतीय बैंकों में पीएनबी ने अब तक का सबसे बड़ा तिमाही घाटा दर्ज किया है। वित्त वर्ष 2015 की चौथी तिमाही में पीएनबी को 307 करोड़ रुपए का मुनाफा हुआ था।

वित्त वर्ष 2016 की चौथी तिमाही में पीएनबी की ब्याज आय 27 फीसदी घटकर 2768 करोड़ रुपए रही है। वित्त वर्ष 2015 की चौथी तिमाही में पीएनबी की ब्याज आय 3792 करोड़ रुपये रही थी। PNB को भारतीय बैंकिंग इतिहास का सबसे बड़ा घाटा, 5367 करोड़ डूबे वित्त वर्ष 2016 की चौथी तिमाही में पीएनबी को 5367 करोड़ रुपये का घाटा हुआ है।  

तिमाही दर तिमाही आधार पर जनवरी-मार्च तिमाही में पीएनबी का ग्रॉस एनपीए 8.47 फीसदी से बढ़कर 12.9 फीसदी रहा है। तिमाही आधार पर जनवरी-मार्च तिमाही में पीएनबी का नेट एनपीए 5.86 फीसदी से बढ़कर 8.61 फीसदी रहा है। रुपए में एनपीए पर नजर डालें तो तिमाही आधार पर जनवरी-मार्च तिमाही में पीएनबी का ग्रॉस एनपीए 34338 करोड़ रुपए से बढ़कर 55818 करोड़ रुपए रहा है। तिमाही आधार पर जनवरी-मार्च तिमाही में रुपए में पीएनबी का नेट एनपीए 22983 करोड़ रुपए से बढ़कर 35423 करोड़ रुपए रहा है।

तिमाही आधार पर जनवरी-मार्च तिमाही में पीएनबी की प्रोविजनिंग 3775 करोड़ रुपए से बढ़कर 10485 करोड़ रुपए रही है। साल दर साल आधार पर जनवरी-मार्च तिमाही में पीएनबी का टैक्स राइट-बैक 938 करोड़ रुपए से बढ़कर 1890 करोड़ रुपए रहा है। सालाना आधार पर जनवरी-मार्च तिमाही में पीएनबी के डिपॉजिट 10.3 फीसदी बढ़कर 5.5 लाख करोड़ रुपए रहे हैं। सालाना आधार पर चौथी तिमाही में पीएनबी के एडवांसेज 8.3 फीसदी बढ़कर 4.1 लाख करोड़ रुपए रहे हैं।