Blog single photo

PMC बैंक घोटाला: पूर्व चेयरमैन वरियम सिंह के बेटे की जुहू में 2500 करोड़ से ज्यादा की संपत्ति का खुलासा

पंजाब एंड महाराष्ट्र को-ऑपरेटिव (PMC) के कथित 4,355 करोड़ रुपये बैंक घोटाला मामले में जैसे-जैसे जांच आगें बढ़ रही है मामले में नए-नए खुलासे हो रहे हैं। वहीं बैंक के पूर्व अध्यक्ष एस. वरयाम सिंह और एचडीआईएल के चयरमैन और प्रबंध निदेशक राकेश कुमार वधावन

दीपक दुबे, न्यूज 24 ब्यूरो, मुंबई (15 अक्टूबर): पंजाब एंड महाराष्ट्र को-ऑपरेटिव (PMC) के कथित 4,355 करोड़ रुपये बैंक घोटाला मामले में जैसे-जैसे जांच आगें बढ़ रही है मामले में नए-नए खुलासे हो रहे हैं। वहीं बैंक के पूर्व अध्यक्ष एस. वरयाम सिंह और एचडीआईएल के चयरमैन और प्रबंध निदेशक राकेश कुमार वधावन और उनके बेटे सारंग वधावन ईओडब्लू की हिरासत में हैं।  EOW की SIT की जांच में खुलासा हुआ है कि PMC बैंक के पूर्व चेयरमैन वरियम सिंह के बेटे की जुहू में 2500 करोड़ से ज्यादा की प्रॉपर्टी है। इतना ही नहीं EOW ने जांच में खुलासा हुआ है कि वरियाम सिंह ने अमृतसर में पांच सितारा होटल, हरियाणा और हिमाचल प्रदेश में भी कथित रूप से अकूत संपत्ति खरीदी थी। 

मुंबई पुलिस कमिश्नर का कहना है कि PMC घोटाले में अबतक 25 लोगों के बयान दर्ज किए जा चुके हैं। इनमें बैंक के कर्मचारी और वधावन से जुड़े लोग हैं। इनमें से कई लोगों की भूमिका संदिग्ध नजर आ रही है। साथ ही उन्होंने कहा है कि इस मामले में जल्द ही और गिरफ्तारियां होगी। बताया जा रहा है कि आरोपियों ने हवाला के जरिए बैंक से पैसे को इधर से उधर किया। मुंबई पुलिस का कहना है कि वो पूरी तरह से खाताधारकों के साथ है और उनकी कोशिश है कि सभी खाताधारकों को उनका पैसा मिल सके। 

इन सबके बीच जांच एजेंसी ने PMC बैंक के पूर्व MD जॉय थॉमस की दूसरी पत्नी यास्मीन खान को सम्मन जारी कर पूछताछ के लिए बुलाया है। जॉय थॉमस ने नाम बदलकर याशमीन से शादी की और अपना नाम जुनैद रख लिया। दोनों ने पुणे में कई फ्लैट और करोड़ों की सम्पत्ति खरीदी। बताया जा रहा है कि PMC बैंक में जॉय थॉमस की सैलरी महज 3 लाख रुपये थी, लेकिन महज चंद सालों में उसने 20 करोड़ रुपये से ज्यादा की पॉपर्टी खरीदा।

बताया जा रहा है कि इस पहले घोटाले के मुख्य आरोपी हाउसिंग डेवलपमेंट इन्फ्रास्ट्रक्चर लिमिटेड के चेयरमैन व मैनेजिंग डायरेक्टर राकेश वधावन और उनके बेटे सारंग वधावन हैं। आर्थिक अपराध शाखा ने बैंक को 4,355.43 करोड़ रुपये का नुकसान पहुंचाने के आरोप में HDIL और PMC बैंक के बड़े अधिकारियों के खिलाफ केस दर्ज किया है। पुलिस के मुताबिक, 31 मार्च 2018 को समाप्त वर्ष के लिए भारतीय रिज़र्व बैंक को सौंपे गए ऋण खातों के विवरण में PMC ने HDLI और उस समूह के 44 ऋण खातों को 21 हजार 49 फर्जी ऋण खातों में बदल दिया। उन ऋणों का ब्यौरा कोर बैंकिंग सिस्टम में दर्ज नहीं किया गया, जबकि बैंक के निदेशक मंडल और अधिकारियों को इसकी पूरी जानकारी थी। ईडी भी मनी लॉन्ड्रिंग एक्ट के तहत मामले की अलग जांच कर रहा है। वहीं बैंक घोटाले के सामने आने पर आरबीआई ने बैंक से नकद लेन-देन पर कई तरह की पाबंदी लगा दी है, जिससे PMC बैंक के खाता धारकों में रोष है। 

ज्यादा जानकारी के लिए देखिए न्यूज 24 की ये खास रिपोर्ट...

Tags :

NEXT STORY
Top