प्रकाश पर्व पर मोदी-नीतीश साथ, एक दूसरे की जमकर की तारीफ

नई दिल्ली ( 5 जनवरी ): गुरु गोविंद सिंह जी के 350वें प्रकाश पर्व के अवसर पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने मंच साझा किया। इस दौरान दोनों ने एक दूसरे की जमकर तारीफ की। इस अवसर पर लोगों को संबोध‍ित करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि 350 साल पहले एक ऐसे दिव्यात्मा का जन्म हुआ जिसने मानवता को एक दिशा दी। पीएम मोदी ने प्रकाश पर्व के सफल आयोजन के लिए बिहार की जनता और नीतीश कुमार की तारीफ की, उन्होंने शराबबंदी पर भी नीतीश कुमार के प्रयासों की जमकर तारीफ की।

पीएम गुरुवार को एयरपोर्ट से सीधे गांधी मैदान पहुंच थे। कार्यक्रम को संबोधि‍त करते हुए बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने शराबबंदी के मामले में गुजरात में नरेंद्र मोदी के प्रयासों की तारीफ की, तो प्रधानमंत्री मोदी ने भी बिहार में नशाबंदी के मामले में नीतीश कुमार के प्रयासों की जमकर तारीफ की। शराबंदी पर नीतीश की तारफी करते हुए मोदी ने कहा, 'समाज सुधार का काम बहुत मुश्किल होता है। इसकी राह में कई कठिनाइयां होती हैं, लेकिन इसके बावजूद उन्होंने जिस तरह नशामुक्ति का अभियान चलाया है, उसके लिए मैं उनका अभिनंदन करता हूं। उन्हें बधाई देता हूं। मैं बिहार की जनता और सभी राजनीतिक दलों से गुजारिश करता हूं कि यह सिर्फ नीतीश कुमार का काम नहीं है। यह जन जन का काम है। यदि इसे सफल बनाएंगे तो बिहार मिशाल बनेगा। मुझे विश्वास है कि बिहार देश की अनमोल शक्ति बनेगा। बिहार की धरती ने गुरु गोविंद सिंह से लेकर कई महापुरुष दिए हैं। राजेंद्र बाबू, जय प्रकाश नारायण, कर्पूरी ठाकुर जैसे अनगिनत नवरत्न इस धरती ने मां भारती की सेवा में दिए हैं।'

'नीतीश ने की मेहनत'

मोदी ने कहा, 'मैं नीतीश जी को, उनकी सरकार और बिहार की जनता को धन्यवाद देता हूं। नीतीश जी ने बहुत मेहनत के साथ तैयारी की है। मुझे बताया जाता था कि नीतीश खुद गांधी मैदान में आकर हर काम को बारीकी से देखते हैं।'

मोदी ने कहा, 'कार्यक्रम भले ही पटना में हो रहा हो, लेकिन यह प्रेरणा पूरी दुनिया के लिए है। गुरु गोविंद सिंह त्याग की प्रतिमूर्ति थे। उन्होंने अपनी आंखों के सामने पिता और मानवता के लिए पुत्रों की बलि चढ़ते देखा। इसके बाद भी त्याग की पराकाष्ठा देखें गुरु गोविंद सिंह जी इस गुरु परंपरा को आगे बढ़ा सकते थे, लेकिन उनकी दूर दृष्टि थी कि उन्होंने ज्ञान को केंद्र में रखते हुए कहा कि अब गुरु ग्रंथ साहिब और उसका हर शब्द आने वाले युगों तक हमें प्रेरणा देता रहेगा।'

मोदी ने कहा, 'गुरु गोविंद सिंह ने पंज प्यारे के माध्यम से देश को जोड़ा। कहते हैं कि आदि शंकराचार्य ने भारत के चारों कोनों में मठ स्थापित करके भारत को एक किया था। गुरु गोविंद सिंह जी ने भी देश के कोने-कोने से पंज प्यारों को चुनकर एकता का संदेश दिया था। मेरा भी आपसे खून का रिश्ता है क्योंकि पंज प्यारों में से एक गुजरात के द्वारिका के थे।'

नीतीश ने भी की तारीफ'

इससे पहले मंच से बोलते हुए नीतीश कुमार ने गुरु गोविंद सिंह के व्यक्तित्व की जमकर तारीफ की। कार्यक्रम में शिरकत करने के लिए उन्होंने पीएम नरेंद्र मोदी और अन्य नेताओं को धन्यवाद दिया। नीतीश कुमार ने बापू के चंपारण यात्रा के 100 साल पूरे होने के मौके पर अपने शराबबंदी से जुड़े फैसले की तारीफ की। नीतीश यह बताना नहीं भूले कि जब मोदी गुजरात के सीएम थे, तभी उन्होंने शराबबंदी का कानून अपने राज्य में लागू कर दिया था।