पीएम मोदी ने विधानसभा और लोकसभा चुनाव एक साथ कराने की आवश्यकता पर फिर दिया जोर

ई दिल्ली ( 27 नवंबर ): प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को 68वें संविधान दिवस पर आयोजित कार्यक्रम में इसकी शक्तियों का उल्लेख करते हुए कहा कि इसमें हर चुनौतियों से निपटने का समाधान मौजूद है। उन्होंने विज्ञान भवन में आयोजित कार्यक्रम में कहा कि आज सभी संस्थाओं को जरूरत है कि वे देश को आगे बढ़ाने के लिए एक-दूसरे को मजबूती देने का काम करें। उन्होंने साथ ही लोकसभा और विधानसभा के चुनाव एकसाथ कराए जाने के मुद्दे पर चर्चा आगे बढ़ाने की अपील की। 

प्रधानमंत्री ने अलग-अलग चुनाव से पड़ने वाले आर्थिक बोझ और नीतिगत योजनाएं लागू होने में आने वाली बाधा का जिक्र करते हुए इस मुद्दे पर विचार और चर्चा करने का आग्रह किया है।

संविधान दिवस के मौके पर बोलते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि कुछ समय से देश में केंद्र और राज्यों में एक साथ चुनाव कराने को लेकर चर्चा शुरू हुई है। कुछ राजनैतिक दलों ने भी हर 4-6 महीने पर चुनाव होने से देश पर आर्थिक बोझ और संसाधनों के दबाव पर चिंता जाहिर की है। उदाहरण देते हुए मोदी ने कहा कि 2009 के लोकसभा चुनाव की बात करें तो 1100 करोड़ का खर्च आया था।

वहीं 2014 के लोकसभा चुनाव में 4000 करोड़ खर्च हुए थे। इसके अलावा उम्मीदवारों का खर्च अलग से। उन्होंने कहा कि एक एक चुनाव में हजारों कर्मचारियों की तैनाती, लाखों सुरक्षा बलों का इधर से उधर होना भी व्यवस्था पर दबाव बनाता है। जब आचार संहिता लागू हो जाती है तो सरकार उतनी आसानी से फैसले नहीं ले पाती।

प्रधानमंत्री ने कहा कि दुनिया के कई देश हैं जहां चुनाव की तारीख तय रहती है। लोगों को पता रहता है कि उनके देश में कब चुनाव होगा, किस महीने में चुनाव होगा। इसका फायदा ये होता है कि देश हमेशा चुनाव के मोड में नहीं रहता। नीतिगत योजनाएं और उनका क्रियान्वयन ज्यादा प्रभावी ढंग से हो पाता है। देश के संसाधनों पर अनावश्यक बोझ नहीं पड़ता। उन्होंने कहा कि एक साथ चुनाव का भारत पहले भी अनुभव कर चुका है और वह अनुभव सुखद रहा था। लेकिन हमारी ही कमियों की वजह से ये व्यवस्था टूट गई। प्रधानमंत्री ने कहा कि वह आज संविधान दिवस के मौके पर इस चर्चा को आगे बढ़ाने का आग्रह करते हैं।