पीएम मोदी दो दिन के दौरे पर सऊदी अरब पहुंचे, 'MBS' से बातचीत होगी अहम

नई दिल्ली (2 अप्रैल) : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी दो दिन के सऊदी अरब दौरे के लिए शनिवार को रियाद पहुंच गए। वे शाही परिवार के गेस्ट हाउस में ठहरेंगे। पीएम मोदी सऊदी अरब के किंग सलमान बिन अब्दुल अज़ीज़ अल सौद के बेटे प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान के न्योते पर सऊदी अरब पहुंचे हैं। प्रिंस सलमान को लेकर कई राजनयिक और सऊदी नागरिक मानते हैं कि वही सऊदी अरब के अगले किंग हो सकते हैं। 30 वर्षीय प्रिंस सलमान की तस्वीरें सऊदी किंग और क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन नाएफ़ के साथ रियाद में होर्डिंग्स पर देखी जा सकती हैं।  

'MBS' से बातचीत होगी अहम

प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान को राजनयिक गलियारों में एमबीएस के नाम से बुलाया जाता है। वे सिर्फ डिप्टी क्राउन प्रिंस ही नहीं बल्कि देश के रक्षा मंत्री और चीफ इकोनॉमिक प्लानर भी हैं। बीते साल सऊदी किंग ने उन्हें ये अहम ओहदे सौंपे थे। उसके बाद से देश के हवाले से वही अजेंडा चला रहे हैं।  

प्रिंस सलमान के नेतृत्व में ही पडोसी देश यमन में हाउती विद्रोहियों के ख़िलाफ़ जंग छेड़ी गई। शुक्रवार को उन्होंने देश की सबसे बड़ी ऑयल कंपनी में शेयर बेच कर दो ट्रिलियन डॉलर इकट्ठे करने की घोषणा की। इस घोषणा का सऊदी अरब में स्वागत किया गया।

असंतुष्टों के ख़िलाफ़ सख्त रुख अपनाते हुए सऊदी अरब में इस साल अब तक 76 लोगों को सज़ा ए मौत दी जा चुकी है। बीते साल 150 लोगों को मौत की सज़ा दी गई थी। 

कौन से मुद्दे हैं अहम

मोदी सऊदी अरब के साथ द्विपक्षीय, क्षेत्रीय समेत कई मुद्दों पर चर्चा करेंगे। सऊदी अरब और भारत के बीच साल 2014-15 में द्विपक्षीय व्यापार 39 अरब डॉलर था। वह भारत में कच्चे तेल का सबसे बड़ा आपूर्तिकर्ता है। सऊदी अरब में 29.6 लाख से अधिक भारतीय नागरिक रह रहे हैं। वहां सबसे अधिक प्रवासी भारत के ही हैं।

साल 2010 में तत्कालीन प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के दौरे के बाद यह सऊदी अरब के लिये सबसे उच्च स्तरीय दौरा हो रहा है। मोदी शाह सलमान के साथ आतंकवाद विरोधी व्यवस्था को विस्तत बनाने और ऊर्जा, व्यापार के क्षेत्र में निवेश बढ़ाने सहित कई मुद्दों पर चर्चा करेंगे।

आतंकवाद विरोधी लड़ाई में बढ़ते सहयोग का संकेत देते हुए सऊदी अरब ने कुछ साल पहले मुंबई हमले के आरोपी अबू जंदल को प्रत्यर्पित किया था। दोनों नेताओं के बीच बातचीत में भारतीय समुदाय के कल्याण और हज श्रद्धालुओं का मुद्दा प्रमुख रह सकता है। मोदी के लिए दोपहर के भोज का आयोजन किया गया जिसमें प्रमुख मंत्री और अधिकारी शामिल होंगे।       रियाद में प्रधानमंत्री सऊदी अरब की कंपनियों के सीईओ से मुलाकात करेंगे, वह मशहूर मासमाक किला जाएंगे, भारतीय समुदाय के साथ बातचीत करेंगे तथा उस टाटा कंसलटेंसी सेंटर का दौरा भी करेंगे, जिसने 1,000 से अधिक सऊदी महिलाओं को प्रशिक्षित किया है।