भारत के पास दुश्मन के किसी भी मिसाइल को आकाश में नष्ट करने की क्षमता: पीएम मोदी

नई दिल्ली(26 परवरी): नरेंद्र मोदी रविवार को मन की बात की। उन्होंने कहा, "वसंत का अागमन हो चुका है। जब मौसम सुहाना होता है तो इंसान भी इसका लुत्फ उठाता है। हाल ही में भारत ने 104 सैटेलाइट स्पेस में भेजे। पूरी दुनिया ने भारत के वैज्ञानिकों की तारीफ की है। इसरो ने देश का नाम ऊंचा किया है। इस साल देश में रिकॉर्ड 2700 लाख टन अनाज की पैदावार हुई। ऐसा लगता है कि किसान रोज पोंगल और वैशाखी मना रहे हैं।"- मोदी ने कहा, "वसंत के मौसम ने दस्तक दे दी है। पेड़ों के पत्ते गिरते हैं। नए फूल खिलते हैं। खेतों में सरसों के फूल किसानों सुखद एहसास दिलाते हैं।"

- "वसंत, महाशिवरात्रि और होली लोगों को नया एहसास दिलाते हैं।"

- "मन की बात के लिए शोभा झा ने लिखा है कि मैं 104 सैटेलाइट की लॉन्चिंग को प्रोग्राम में रखूं। 15 फरवरी, 2017 ऐतिहासिक दिन है।"

- "इसरो ने पिछले दिनों कई कामयाब मुकाम हासिल किए। कई देशों के 104 सैटेलाइट स्पेस में भेजकर वर्ल्ड रिकॉर्ड बनाया।"

- "इसरो की कॉस्ट एफिशिएंट टेक्नोलॉजी दुनिया के लिए अचंभा है।"

- "सैटेलाइट कार्टोसेट-2डी से किसानों को काफी मदद मिलेगी। उसने कुछ तस्वीरें भी भेजी हैं। इस पूरे मिशन में महिला साइंटिस्टों की बड़ी भूमिका है।"

- "इसरो के सभी साइंटिस्टों को बहुत शुभकामनाएं।"

- "भारत ने पिछले दिनों इंटरसेप्टर मिसाइल का भी टेस्ट किया है। इससे देश की सिक्युरिटी मजबूत होगी। ये मिसाइल 2000 किलोमीटर से आने वाली दुश्मन की 

मिसाइल को आसमान में ही मार गिराएगी।"

- मोदी ने कहा, "विज्ञान का नया रूप एक नए युग को जन्म देता है। देश को कई वैज्ञानिकों की जरूरत है।"

- "गांधीजी कहते थे कि विज्ञान की टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल आम आदमी के जीवन को कैसे सरल बना सकता है। इसके लिए काम करना चाहिए।"

- "सरकार ने गरीब मछुआरों के लिए एक ऐप बनाया है। इससे उन्हें समंदर में हवा की दिशा और खतरे की जानकारी मिलती है।"

- "हमारा समाज और व्यवस्थाएं टेक्नोलॉजी पर टिकी हुई हैं। पिछले दिनों डिजी धन मेला को भारी कामयाबी मिली है। दो महीने से 15 हजार लोगों को रोज ईनाम मिलता है। 150 करोड़ से ज्यादा की रकम इनाम में दी गई।"

- "इसमें किसान, कारोबारी, घरेलू महिलाएं, नौजवान और बुजुर्ग भी शामिल हैं।"

- मोदी ने कहा, "देश की इकोनॉमी में किसानों का अहम रोल है। उन्होंने कड़ी मेहनत से 2700 लाख टन रिकॉर्ड अनाज पैदा किया है। खेतों में फसल ऐसी लहराई है। हर दिन पोंगल और वैशाखी आई है।"

- "मेरे देश के किसानों ने गरीबों को ध्यान में रखते हुए 290 लाख हेक्टेयर जमीन पर अलग-अलग दालों की खेती की है। इसके लिए वे धन्यवाद के हकदार हैं।"

- स्वच्छा के बारे में हर कोई कुछ ना कुछ करता हुआ नजर आ रहा है।