दिल्ली यूनिवर्सिटी ने कहा, असली है पीएम की डिग्री

नई दिल्ली (10 मई) :  दिल्ली यूनिवर्सिटी की ओर से साफ़ कर दिया गया है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की बीए की डिग्री प्रामाणिक है यानी असली है। इससे दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और आम आदमी पार्टी के नेताओं की ओर से जताई जा रही आशंकाओं पर विराम लग गया है।

टाइम्स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट के मुताबिक दिल्ली यूनिवर्सिटी ने कहा है कि उसके पास प्रधानमंत्री के ग्रेजुएशन से संबंधित सारे रिकॉर्ड मौजूद हैं। साथ ही ये भी कहा है कि उनके स्नातक परीक्षा पास करने के साल को 1979 दर्शाना मामूली त्रुटि है जबकि उन्होंने एक साल पहले ये परीक्षा पास की थी।  

दिल्ली यूनिवर्सिटी के रजिस्ट्रार तरुन दास ने कहा कि हमने सारे रिकॉर्ड्स चेक किए हैं और इनके मुताबिक प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की डिग्री प्रामाणिक है। उन्होंने स्नातक परीक्षा 1978 में पास की और उन्हें 1979 में डिग्री दी गई।

जब रजिस्ट्रार से अंकों की गणना में विसंगतियों के बारे में पूछा गया कि मार्कशीट को टाइप किया गया है जबकि उस दौर में डिग्री मे विवरण हाथ से लिखे जाते थे, इस पर उन्होंने कहा कि हर भिन्नता पर टिप्पणी करना संभव नहीं है। मैं सिर्फ इतनी पुष्टि कर सकता हूं कि डिग्री प्रामाणिक है।  

बता दें कि दिल्ली यूनिवर्सिटी की ओर से ये सफाई आप नेताओं के दिल्ली यूनिवर्सिटी पहुंचने के कुछ घंटे बाद आई। ये नेता प्रधानमंत्री की डिग्री की जांच करने के इरादे से यूनिवर्सिटी दफ्तर पहुंचे थे। हालांकि दिल्ली यूनिवर्सिटी की ओर से आम आदमी पार्टी के नेताओं- आशुतोष. संजय सिंह, दिलीप पांडे और आशीष खेतान को वाइस चांसलर से मिलने की अनुमति नहीं दी गई। उनसे कहा गया कि वे बुधवार को आएं। पार्टी के नेताओं के यूनिवर्सिटी के पहुंचने पर पुलिस का भारी बंदोबस्त देखा गया।

आम आदमी पार्टी के नेताओं ने कहा कि ये पीएम की डिग्री का मामला है और ये वीसी की जिम्मेदारी है कि वो सच को प्रस्तुत करें।