पीएम मोदी ने कहा, विकास के मीटर पर पिछड़े 100 जिले चुनें, उन्हें चमकाना है

नई दिल्ली ( 10 मई ): मोदी सरकार का अगला एजेंडा उन जिलों तक विकास कार्य को तेजी से पहुंचाना है जो अलग-अलग कारणों से अब तक सबसे पीछे रह गये हैं और विकास के मीटर पर पिछड़े हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ऐसे 100 सबसे कमजोर जिलों को चुनने का टास्क दिया है। इन जिलों को अगले एक-दो महीने में चुनने के बाद वहां के लिए विकास का रोडमैप अलग से तैयार होगा।


प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने मंगलवार को मीटिंग कर इन 100 जिलों को चुनने का जिम्मा दिया। इन जिलों को चुनने का काम नीति आयोग तमाम दूसरे मंत्रालयों के साथ करेगी। मोदी सरकार के लिए इन 100 जिलों का विकास अगले साल के सबसे अहम एजेंडे में शामिल होगा।


पीएम मोदी ने इन 100 जिलों के विकास का जिम्मा उठाने के साथ इसके लिए अपना विजन भी मंगलवार को पेश किया। उन्होंने अधिकारियों से कहा कि इन 100 जिलों को चुनने के बाद इनके लिए डेवेलपमेंट रोड बनाने के साथ उसकी मॉनिटरिंग के लिए हर जिले की अलग कमिटी बनाने का निर्देश दिया। जिन पैरामीटर पर इन 100 सबसे खराब प्रदर्शन करने वाले जिलों का चयन होगा उनमें-आवास योजना, डिजिटल विस्तार, ग्रामीण योजनाओं के क्रियान्वयन जैसी चीजें शामिल हैं।