मानसून से पहले पीएम मोदी ने ग्राम प्रधानों को लिखी चिट्ठी, इस आंदोलन को बढ़ाने की तैयारी

pm modi letter

न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली (15 जून): मानसून आने से पहले प्रधानमंत्री मोदी ने देशभर के ग्राम प्रधानों को चिट्ठी लिखी है। प्रधानमंत्री मोदी ने ग्राम प्रधानों से स्वच्छता अभियान की तरह जल संचयन अभियान को भी जन आंदोलन का रूप देने का आह्वान किया है। इस पत्र में पीएम ने ग्राम प्रधानों से बारिश के पानी ज्यादा से ज्यादा संचय करने, खेतों की मेड़बंदी, नदियों और धाराओं में चेक डैम का निर्माण, तटबंधी, तालाबों की खुदाई और सफाई, पौधरोपण, वर्षा जल के संचयन के लिए टांका, जलाशय आदि का निर्माण करने की बात कही गई है। पीएम ने पत्र में कहा है कि खेत का पानी खेत में और गांव का पानी गांवों में संचयित किया जाए। वहीं इस पत्र के संदेश को आम जन तक पहुंचाने के लिए संबंधित अधिकारियों को भी निर्देश जारी किए गए हैं।

Modi Letter

चिट्ठी में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ग्राम प्रधानों का आह्वान किया है कि मानसून आने वाला है और हम भाग्यशाली है कि ईश्वर ने देश को पर्याप्त वर्षा जल प्रदान किया है। ईश्वर की अनुपम भेंट का आदर करना भी हम सभी का कर्तव्य है। इसलिए बारिश का मौसम शुरू होने से पूर्व ही हम सभी को ऐसे प्रयास करने हैं कि बारिश का जल बेकार न जाए। खेत का पानी खेत में रहे इसके लिए मेढ़बंदी की जाए। जबकि गांव का पानी बर्बाद न हो इसके लिए तालाब आदि की सफाई एवं खोदाई के इंतजाम किए जाएं। प्रधानमंत्री मोदी ने सभी ग्राम प्रधानों का आह्वान किया है कि सभी ग्राम पंचायतों में ग्राम सभा की बैठक बुलाकर सभी ग्रामीणों को मेरे संदेश को पढ़कर सुनाएं। ताकि सभी ग्रामीण पानी की एक-एक बूंद को सहेजकर अपने क्षेत्र के भूगर्भ जल स्तर को ऊपर उठाने में सहयोग करें।

monsoon

प्रधानमंत्री मोदी ने सभी ग्राम प्रधानों का आह्वान किया है कि सभी ग्राम पंचायतों में ग्राम सभा की बैठक बुलाकर सभी ग्रामीणों को मेरे संदेश को पढ़कर सुनाएं ताकि सभी ग्रामीण पानी की एक-एक बूंद को सहेजकर अपने क्षेत्र के भूगर्भ जल स्तर को ऊपर उठाने में सहयोग करें।