मोदी को मिला UAE का सर्वोच्च सम्मान, पागल हुआ पाकिस्तान

 न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली (24 अगस्त): फ्रांस के बाद अब पीएम मोदी यूएई के दौरे पर हैं। आज यूएई अपने सबसे बड़े नागरिक सम्मान  'ऑर्डर ऑफ जायद' से पीएम मोदी को सम्मानित किया। इस अवॉर्ड की घोषणा इस साल अप्रैल में हुई थी। इसका मकसद भारत और दुबई के बीच द्विपक्षीय संबंधों को और मजबूती देना है। यह सम्मान दुबई के संस्थापक शेख जायद बिन सुल्तान अल नाह्यां के नाम पर रखा गया है। गौरतलब है कि 2007 में ऑर्डर ऑफ जायेद रुस के राष्ट्रपति ब्लादिमीर पुतिन को मिला था। 2010 में यह इंग्लैंड की महरानी एलिजाबेथ द्वितीय को मिला था। 2018 में ऑर्डर ऑफ जायेद चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग को मिला और अब 2019 में ऑर्डर ऑफ जायेद पीएम नरेन्द्र मोदी को मिला है। मोदी मुस्लिम देश का सर्वोच्च सम्मान मिलने से पाकिस्तान पगला सा गया है। पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान मोदी को मिले सम्मान से चिढ़ कर दूसरे राष्ट्राध्यक्षों से भारत की फर्जी शिकायतें कर रहे हैं।

PM MODI

बहरहाल, खास बात यह है कि सिर्फ 6 साल में पीएम मोदी को दुनिया के छह देशों ने अपने देश का सबसे बड़ा सम्मान दिया है। इस बार संयुक्त अरब अमिरात देने जा रहा है। ये सम्मान विश्वास बढ़ता है कि हम जिस रास्ते पर बढ़ रहे हैं, उसकी दुनिया में कद्र है। इससे जुड़े एक सवाल पर पीएम मोदी ने कहा कि इस पुरस्कार को लेकर मैं बेहद सम्मानित महसूस कर रहा हूं। यह हमारी बढ़ती भागीदारी का सबूत है। यह भारत की 1.3 अरब जनता का सम्मान है। उन्होंने कहा कि यह दोनों देशों के बीच साझा सुरक्षा, शांति और समृद्धि के लिए रिश्तों के अभूतपूर्व तालमेल को दर्शाता है। भारत और यूएई के रिश्तों की कोई सीमा नहीं है।

PM MODI

इससे बड़ी बात और क्या हो सकती है कि सउदी अरब अपने देश का सर्वोच्च सम्मान ऑर्डर ऑफ अब्दुल अजीज अल सउद 3 अप्रैल 2016 में दे चुका है। पीएम मोदी को अफगानिस्तान का ऑर्डर ऑफ गाजी आमिर अमानुल्ला खान 4 जून 2016 को मिल चुका है। 10 फरवरी 2018 को फिलिस्तीन ने ग्रैंड कॉलर ऑफ फिलिस्तीन का अवॉर्ड दिया था। दक्षिण कोरिया का सियोल शांति पुरुष्कार 24 अक्टूबर 2018 को मिला था। रूस का सबसे बड़ा सम्मान ऑर्डर ऑफ सेंट एंड्रयूज अवॉर्ड 12 अप्रैल 2019 को मिल चुका है और मालदीव का ऑर्डर ऑफ निशानिजुद्दीन पुरुस्कार 8 जून 2019 को पीएम मोदी को मिला था।

अबू धाबी पहुंचने पर प्रधानमंत्री मोदी का एयरपोर्ट पर जोरदार स्वागत किया गया। अबू धाबी पहुंचने पर पीए मोदी ने ट्वीट कर कहा, 'अबू धाबी पहुंचा हूं। शहजादे शेख मोहम्मद बिन जायद के साथ वार्ता को लेकर आशान्वित हूं और भारत तथा यूएई के बीच मित्रता के सभी पहलुओं पर चर्चा होगी। यात्रा के दौरान आर्थिक संबंधों को मजबूत बनाना भी एजेंडे में होगा।'

अबू धाबी में आज पीएम मोदी और क्राउन प्रिंस शेख मोहम्मद बिन जायद अल नाहयान द्विपक्षीय वार्ता करेंगे। साथ ही इस मीटिंग में दोनों राष्ट्राध्यक्ष क्षेत्रीय और अंतरराष्ट्रीय हितों पर भी बातचीत करेंगे। प्रधानमंत्री मोदी क्राउन प्रिंस के साथ संयुक्त रूप से महात्मा गांधी की 150वीं जयंती मनाने के लिए एक डाक टिकट जारी करेंगे। इसी के साथ मोदी विदेशों में कैशलेस लेनदेन के नेटवर्क का विस्तार करने के लिए औपचारिक रूप से रुपे कार्ड लॉन्च करेंगे। आपको बता दें कि बीते चार सालों में यह तीसरा मौका है जब प्रधानमंत्री मोदी यूएई के दौरे पर हैं। खाड़ी देशों में दुबई को सबसे बड़ा बिजनेस हब माना जाता है। यहां बड़ी तादात में भारतीय पर्यटक भी पहुंचते हैं। यही कारण है कि बीते कुछ वर्षों में दोनों देशों ने बिजनेस बढ़ाने को लेकर लगातार बातचीत की है। गौरतलब है कि यूएई कश्मीर मसले पर भी भारत का समर्थन कर चुका है। पाकिस्तान की इच्छा के विपरीत यूएई ने कहा था कि कश्मीर से धारा 370 हटाना भारत का आंतरिक मामला है। यूएई के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बहरीन जाएंगे। इसके बाद जी-7 समिट में हिस्सा लेने वापस फ्रांस आ जाएंगे।