जानिए, अपने विदेश दौरों पर फ्लाइट में ही क्यों सोते हैं PM मोदी

नई दिल्ली (9 अप्रैल): पीएम मोदी का टाइम मैनेजमेंट हमेशा से चर्चा का विषय रहा है। उनके टाइम मैनेजमेंट का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि वे अपने विदेश दौरे के दौरान रात को होटल में ठहरने के बजाय प्लेन में ही यात्रा करना पसंद करते हैं। ऐसा वो टाइम की बचत के लिए करते हैं। 

टाइम्स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट्स के अनुसार मोदी विदेशी दौरे पर रात का समय प्लेन में यात्रा कर बिताते हैं और इसी समय अपनी नींद पूरी करते हैं। मोदी 30 मार्च से 2 अप्रैल तक तीन देशों (बेल्जियम, यूएस और सउदी अरब) की यात्रा पर थे। इस दौरान उन्होंने यात्रा के लिए रात का समय चुना और यात्रा के दौरान तीन रात उन्होंने प्लेन में ही सोकर गुजारे। 

रिपोर्ट में यह भी बताया गया है कि इस यात्रा के दौरान पीएम केवल दो दिन होटेल में रुके थे। एक दिन वाशिंगटन में और एक दिन रियाद में। मोदी ने तीन देशों की यात्रा महज 97 घंटे में पूरी की। अगर वे टाइम मैनेजमेंट इस तरह से नहीं करते तो इस यात्रा में 6 दिन का समय भी लग सकता था।

इस रिपोर्ट में एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया है कि पूर्व पीएम मनमोहन सिंह की विदेश यात्राओं में ज्यादा समय लगता था। वो रात में यात्राएं कम करते थे और ज्यादातर उनकी यात्राएं एक ही शहर तक सीमित रहती थीं। पीएम मोदी ने खुद कहा है कि रात में होटल में रुकने से बेहतर है उसे यात्रा में लगाया जाए। ऐसे में काफी समय बच जाता है।

मनमोहन सिंह के मुकाबले मोदी पीएम मोदी ने अपने पहले साल के कार्यकाल में 95 दिन विदेश यात्राओं पर रहे। इन 95 दिनों में उन्होंने 20 विदेश दौरे किए जिसमें 40 देशों की यात्रा की। वहीं पूर्व पीएम मनमोहन सिंह ने अपने इतने दिन के कार्यकाल में 72 दिन ही विदेश में बिताए थे। इन 72 दिनों में उन्होंने 15 विदेश दौरे किए जिसमें 18 देशों की यात्रा की थी। इसके अलावा यूपीए दो में बतौर प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने दो साल में 17 विदेशी दौरों में 24 देशों की यात्रा की थी। 

टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार पीएम ऐसी परिस्थिती में ही रात में होटल मे ठहरते हैं जब अगले दिन में किए जाने वाले कामों की लिस्ट लंबी हो। यही कारण है कि एक अप्रैल को PM ने न्यूक्लियर समिट में शाम पांच बजे तक हिस्सा लिया। वहां से सीधे रियाद जाने के लिए एयरपोर्ट पहुंचे। 12 घंटे की फ्लाइट के दौरान ही प्रधानमंत्री ने अपनी नींद पूरी की।