#PMMODI: पाकिस्तान के हुक्मरान सुन ले, हमारे 18 जवानों का बलिदान बेकार नहीं जाएगा

नई दिल्ली (24 सितंबर): उरी में सेना के बेस कैंप पर हुए हमले के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पहली बार देश को संबोधित किया। केरल के कोझिकोड में पीएम मोदी ने रैली को संबोधित करते हुए कहा केरल भगवान का अपना देश।

पीएम मोदी ने कहा...

- खाड़ी देशों के दौरे पर गया था। वहां मैंने केरल के लोगों से मिलने की इच्छा जाहिर की। वहां के लोगों के मुंह से केरल के लोगों के काम और जीवन की भरपूर प्रशंसा सुनकर गर्वित महसूस करता हूं। - साल पहले जब कोझिकोड़ में पंडित दीनदयाल उपाध्याय को जनसंघ के अध्यक्ष पद की जिम्मेदारी दी थी, तब इस खबर को अखबारों में भी शायद जगह नहीं मिली थी। आज 50 साल के भीतर बीजेपी देश की सबसे बड़ी पार्टी बन गई। जनता ने बीजेपी को देश की सेवा का मौका दिया।

- गांधी, दीनदयाल, लोहिया के चिंतन का प्रभाव आज के हिंदुस्तान की राजनीति पर नजर आता है।

- एनडीए के सांसदों ने जब मुझे नेता के रूप में चुना और संसद में अपने पहले भाषण में मैंने कहा था कि हमारी सरकार गरीबों को समर्पित हैं। यह भाव गांधी और दीनदयाल के विचारों से प्रेरित है।

- सबका साथ और सबका विकास का मंत्र लेकर देश तेज गति से आगे बढ़ रहा है। दुनिया की बड़ी-बड़ी इकॉनोमी में देश आज सबसे तेजी से आगे बढ़ रहा है।

- मछुआरा हो, मजदूर हो, किसान हो या व्यापारी हो दिल्ली में बैठी सरकार सबको नई उर्जा और नई शक्ति देने को तैयार बैठी है।

- आज भारत के सामने कई चुनौतियां है। 21वीं सदी एशिया की सदी बने इसके लिए हम लगे हुए हैं। हर प्रकार की शक्तियां मौजूद हैं और सारे अवसर साफ-साफ नजर आ रहे हैं।

- एशिया के सभी देश 21वीं सदी एशिया की बने। हर देश इसके लिए भरकस प्रयास कर रहा है। लेकिन एक देश एशिया में ऐसा है, जो 21वीं सदी एशिया की ना बने। पूरा एशिया आतंकवाद की चपेट में आ जाए, खून खराबा हो, पूरा एशिया आतंकवाद की चपेट में आ जाए उसका षड्यंत्र करने में लगा हुआ है।

- एशिया जहां-जहां आतंक की घटना घट रही है, वह सभी एक ही देश को गुनहगार मानते हैं। यहीं एक देश आतंकवाद को एक्सपोर्ट करने में लगा हुआ है।

- दुनिया में जब भी आतंकवाद की खबर आती है तो यह भी खबर सामने आती हैं कि या तो वह इस देश से गया था या ओसामा बिन लादेन की तरह इस देश में आकर बसा था।

- जम्मू-कश्मीर के उरी में पड़ोसी देश से भेजे गए आतंकवादियों से मुठभेड़ में 18 जवानों को शहीद होना पड़ा। आतंकवादी कान खोलकर सुन लें यह देश इस बात को कभी भूलने वाला नहीं है।

- हमारे सवा सौ करोड़ देशवासियों को हमारी सेना पर गर्व है, उनके बलिदान पर गर्व है।

- आतंकवादियों ने कुछ महीनों में 17 बार देश की सीमा में घुसने की कोशिश की, सेना ने सभी घुसपैठियों को वहीं खत्म कर दिया। पिछले कुछ महीनों में 110 आतंकवादी मारे गए। हमारे देश के 125 करोड़ नागरिकों को सेना के जवानों की वीरता और उनके बलिदान पर गर्व है।

-आप कल्पना कर सकते हैं, हमारा पड़ोसी देश एक योजना में सफल हुआ और 18 जवानों को शहीद होना पड़ा। अगर वह अपनी सभी योजना में सफल हो जाता तो क्या हुआ होता आप सोच सकते हैं।

-हमारे सेना के जवान, हमारे सुरक्षाबलों के जवान, चाहे बीएसएफ हो, चाहे सीआरपीएफ हो, चाहे जम्मू-कश्मीर की पुलिस या नॉर्थ हो इस लड़ाई को जीतते चले गए हैं। जवानों के लिए हथियार नहीं मनोबल सबसे ऊंचा होता है। भारत के सवा सौ करोड़ लोगों का मनोबल हमारी सैन्य ताकत है।

-  पड़ोस के देश के नेता, उनके हुक्मरान कहा करते थे हजार साल लड़ेंगे, काल के भीतर कहां खो गए, नजर नहीं आते हैं।

- आज के हुक्मरान आतंकवादियों के आकाओं के लिखे हुए भाषण पढ़कर कश्मीर के गीत गा रहे हैं।

- मैं पाकिस्तान की आवाम को याद दिलाना चाहता हूं कि 1947 के पहले आपके पूर्वज भी इस संयुक्त हिंदुस्तान की धरती को प्रणाम करते थे। आपके पूर्वजों की याद दिलाते हुए मैं आपसे कुछ बात कहना चाहता हूं।

- पाकिस्तान की आवाम अपने हुक्मरानों को पूछे कि पीओके तो आपके पास है, आप उसको तो संभाल नहीं पाते, कभी पूर्वी पाकिस्तान भी आपके पास था वो भी नहीं संभाल पाए, गिलगित-बाल्टिस्तान को नहीं संभाल पा रहे हैं, बलूचिस्तान को नहीं संभाल पा रहे हैं, कश्मीर को क्या संभालेंगे।

-पाकिस्तान की आवाम अपने हुकमरनाओं से पूछे कि दोनों देश साथ आजाद हुए, क्या कारण है कि हिंदुस्तान सॉफ्टवेयर एक्सपोर्ट करता है और आप आतंकी एक्सपोर्ट करते हैं।

- पाक की आवाम से मैं कहना चाहता हूं कि आपके हुक्मरान आपको गुमराह करने के लिए हिंदुस्तान से हजार साल लड़ने की बात करते हैं। आज दिल्ली की सरकार इस चुनौती को स्वीकार करना चाहती है

- हम पाक की जनता से बताना चाहते हैं कि वह अपने हुक्मरानों से बात करें कि युद्ध इस बात के लिए होना चाहिए कि गरीबी को कौन पहले खत्म करेगा। आओ लड़ाई लड़ें नवजात शिशुओं को बचाने की, प्रसूता माताओं को बचाने की, देखते हैं कौन पहले जीतता है।

- वो दिन दूर नहीं जब पाकिस्तान की आवाम अपने हुक्मरानों और आतंकवाद के खिलाफ सड़कों पर उतर आएगी।

- 21वीं सदी में भारत ऐसा देश बने जो गरीबी से मुक्त हो, समृद्धी से युक्त हो, भेदवाभ से मुक्त हो, समानता से युक्त हो, अन्याय से मुक्त हो, न्याय से युक्त हो, भ्रष्‍टाचार से मुक्त हो, बेरोजगारी से मुक्त हो, योजगारी से युक्त हो, महिला उत्पीड़न से मुक्त हो, नारी सम्मान से युक्त हो।

- वो दिन दूर नहीं जब पाकिस्तान की आवाम अपने हुक्मरानों और आतंकवाद के खिलाफ सड़कों पर उतर आएगी