SCO की बैठक में हिस्सा लेने आज कजाकिस्तान के लिए रवाना होंगे पीएम मोदी

नई दिल्ली(8 जून): पीएम मोदी आज दो दिन के दौरे पर कजाकिस्तान के लिए रवाना हो रहे हैं। प्रधानमंत्री कजाकिस्तान में भारत शंघाई सहयोग संगठन की बैठक में हिस्सा लेगा। इस बार भारत के साथ-साथ पाकिस्तान को इस संगठन की सदस्यता मिलने वाली है।

- कजाकिस्तान के अस्ताना में हो रही है शंघाई सहयोग संगठन की बैठक जिसमें शामिल देशों के शीर्ष नेता शामिल होंगे। भारत भी अपने हितों की रक्षा के लिए इस संगठन में शामिल होने जा रहा है।

- शंघाई सहयोग संगठन में शामिल देशों के नेता दुनिया की आधी जनसंख्या का प्रतिनिधित्व करते हैं। मिलिट्री सहयोग,  इंटेलिजेंस का अदान प्रदान और आतंकवाद के खिलाफ साझेदारी इस संगठन का मुख्य उद्देश्य है।

- शंघाई सहयोग संगठन का जन्म भी मिलिट्री सहयोग और आतंकवाद के खिलाफ गुप्त सूचनाओं की साझेदारी के लिए हुआ था। 1996 में पांच देशों चीन, रूस, कज़ाकस्तान, किर्गिस्तान और ताजिकिस्तान ने आपस में सहयोग का वादा किया था। इसे शंघाई फ़ाइव कहा गया था। जून 2001 इन पांचों ने उज्बेकिस्तान को साथ लेकर शंघाई सहयोगी संगठन शुरू किया।  शंघाई सहयोग संगठन के छह सदस्य देशों का भूभाग यूरोशिया का 60 प्रतिशत है। यहां दुनिया के एक चौथाई लोग रहते हैं। 2005 में भारत पहली बार बैठक में शामिल हुआ। संगठन का मकसद आपस में सहोयग बढाना है।