#IndiaBelgium : 'बेल्जियम के साथ हमारा खून का रिश्ता है' : PM मोदी

नई दिल्ली (30 मार्च): प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बुधवार को बेल्जियम पहुंचे। ब्रसेल्स के एगमाउंट पैलेस में हुए एक हाईप्रोफाइल कार्यक्रम में उन्होंने व्यापारियों और बेल्जियम के वरिष्ठ नेताओं और अधिकारियों के साथ खास मुलाकात की। इस मौके पर बेल्जियम के पीएम चार्ल्स माइकल भी मौजूद रहे। 

बेल्जियम के प्रधानमंत्री ने मोदी का स्वागत करते हुए कहा, "भारत और बेल्जियम के रिश्ते में भरपूर क्षमता है।" इसके बाद मोदी ने मीटिंग में संबोधित किया। उन्होंने अपने भाषण की शुरुआत बेल्जियम में हुए आतंकी हमलों में मारे गए लोगों को श्रृद्धांजलि देने के साथ की।

पीएम मोदी के भाषण के खास बिंदु

"आतंकवाद की समस्या काफी बढ़ रही है। सभी राष्ट्रों के लिए ये जरूरी है कि वे इस समस्या से लड़ें। भारत 40 साल से इससे लड़ाई कर रहा है।" 

"हम एक दूसरे पर निर्भर विश्व में रहते हैं। भारत कई बड़े अवसर प्रदान करता है। जिसमें बाजार के ही नहीं बल्कि टैलेंट भी उपलब्ध कराते हैं।"

"हम अपने पोर्ट सेक्टर का बड़े पैमाने पर विकास कर रहे हैं। इस रास्ते से हम बेल्जियम के व्यापारियों को भी कई अवसर उपलब्ध करा रहे हैं।"

"डायमंड हमारे बीच में एक कड़ी रहे हैं। यह भारत में कई लोगों को रोजगार उपलब्ध कराता है। इसके अलावा अन्य क्षेत्र आईटी है।"

"आज मेरी पीएम चार्ल्स माइकल के साथ काफी उत्पादक बातचीत हुई। एसएंडटी से लेकर ट्रेड तक हम काफी कुछ एक साथ मिलकर कर सकते हैं।"

"बेल्जियम के साथ हमारा खून का रिश्ता है। 100 साल पहले भारत से 1,30,000 भारतीयों ने प्रथम विश्व युद्ध के दौरान बेल्जियम के लोगों के साथ इस धरती पर लड़ाई की थी। जिसमें 9000 भारतीय सैनिकों ने असीम बलिदान किया था।"

"अगले साल भारत-बेल्जियम कूटनीतिक संबंधों की 70वीं वर्षगांठ मनाया जाएगा"

पीएम ने अपने भाषण का अंत भारत में काम शुरू करने के लिए आमंत्रित करने के साथ किया। उन्होंने कहा कि भारत दुनिया की सबसे तेजी से विकसित होती अर्थव्यवस्था है।