पीएम मोदी ने ऐसे दिया चकमा, खुद करते रहे गरीबी की बात और सेना ने पाक को दे मारी लात

दयाकृष्‍ण चौहान, नई दिल्ली (29 सितंबर): भारतीय सेना ने जब एलओसी पार करके 7 आतंकी ठिकानों को सर्जिकल स्ट्राइक के तहत नष्‍ट किया तो पाकिस्तान के होश उड़ गए। पाकिस्तान यह समझ ही नहीं पाया कि आखिरकार भारत ने किस तरह से ऐसा कर दिया। इसमें सबसे बड़ा रोल भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने निभाया।

प्रधानमंत्री ने पाकिस्तान क्या देश के अंदर विपक्ष को भी यह पता नहीं लगने दिया कि वह क्या करने वाले हैं। कोझिकोड़ में जहां उन्होंने पाकिस्तान के हुक्मरानों से गरीबी से लड़ने की बात की तो वहां के मीडिया में उनका मजाक उड़ने लगा। लेकिन मोदी की चाल को कोई नहीं समझ पाया।

हालांकि सूत्रों ने बताया कि 20 सितंबर की रात प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रक्षा मंत्रालय के कंट्रोल रुम में बैठक की, जिसमें आर्मी, नेवी और एयरफोर्स के तीनों चीफ शामिल थे। डॉयरेक्टर जनरल ऑफ मिलिट्री ऑपरेशन और राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार भी इस मीटिंग में शामिल हुए। प्रधानमंत्री ने तभी यह तय कर लिया था कि पाकिस्तान को करारा जवाब जरूर दिया जाएगा। इसके लिए उन्होंने हर विकल्प पर विचार किया। मीटिंग में तय हुआ कि सही समय पर जवाबी कार्रवाई की जाएगी।

प्रधानमंत्री और भारत सरकार के दूसरे मंत्रियों ने भी बार-बार इस बात को कहा कि शहीदों की शहादत को बेकार नहीं जाने दिया जाएगा, लेकिन उनके बयानों को जुमला कहकर नजरअंदाज कर दिया गया। सेना ने भी कहा कि सही समय आने पर पाकिस्तान को करारा जवाब दिया जाएगा।

ऐसे हुई कार्रवाई: दो दिन पहले आतंकियों के PoK में बने लॉचिंग पैड पर जमा होने की ख़बर मिली। आतंकियों की पलटन हिंदुस्तान में घुसपैठ के लिए तैयार थी। कल देर शाम रक्षा मंत्री को ऑपरेशन की जानकारी दी गयी। आर्मी, एयरफोर्स, नेवी चीफ ने रक्षा मंत्री को दी जानकारी। NSA को भी ऑपरेशन की जानकारी दी गयी। ऑपरेशन के लिए पारा कमांडो की स्पेशल टीम को चुना गया। ऑपरेशन के दौरान DGMO कंट्रोल रुम में ही मौजूद थे। राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल भी लगातार संपर्क में थे। इसके साथ ही भारत ने अंजाम दिया उस ऑपरेशन को जिसके बाद पाकिस्तान के होश उड़ गए।