जिन बैंक कर्मचारियों ने नोटबंदी के दौरान गड़बड़ी की है उन्हें बख्शा नहीं जाएगा- पीएम मोदी

नई दिल्ली (31 दिसंबर): 8 नवंबर के नोटबंदी के बाद पहली बार और नए साल 2017 से ठीक पहले प्रधानमंत्री मोदी देश को संबोधित कर रहे हैं। इस मौके पर प्रधानमंत्री मोदी ने जहां देशवासियों को नए साल की शुभकामनाएं दी वहीं अपने नोटबंदी के फैसले का एकबार फिर बचाव किया और कहा कि ये देश के समुचित विकास के लिए जरूरी थी। इससे कालेधन के कारोबारी और भ्रष्टचारियों पर नकेल लगाया जा सकेगा। उन्होंने कहा कि नोटबंदी के इस यज्ञ को देशवासियों ने धैर्य से शुद्धि यज्ञ चलाया और ने मुसीबत की घड़ी में धैर्य से काम किया। ईमानदार देशवासियों की मुहिम से कालेधन, भ्रष्टाचार को घुटने टेकने पर मजबूर कर दिया है।

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि जिन बैंक कर्मचारियों ने नोटबंदी के दौरान गड़बड़ी की है उन्हें बख्शा नहीं जाएगा।

पीएम मोदी की बड़ी बातें...

- काल के कपाल पर अंकित हो चुका है कि जनशक्ति का मतलब क्या होता है

- किसी देश के लिए शुभ संकेत है कि उसके नागरिक कानून का पालन करते हुए मुख्य धारा में वापस आ रहे हैं

- बैंकों से आग्रह है कि वे अपनी परंपरागत प्राथमिकताओं से बाहर आकर गरीब और निम्न मध्यम वर्ग के लोगों को ध्यान नें रखकर कामकाज करें

- जिन बैंक कर्मचारियों ने नोटबंदी के दौरान गड़बड़ी की है उन्हें बख्शा नहीं जाएगा

- नोटबंदी के दौरान बैंक कर्मचारी, पोस्ट ऑफिस कर्मियों ने बहुत सराहनीय काम किया है

- बीते दिनों की घटनाओं ने यह साफ किया है कि चालाकी के रास्ते आगे बंद हो चुके हैं

- यह सरकार सज्जनों की मित्र है और दुर्जनों को सही रास्ते पर लाने के लिए मार्ग प्रशस्त करने में लगी है

- चर्चा स्वाभाविक है कि अब बेईमानों का क्या होगा? ऐसे में कानून अपना काम करेगा। सरकार की प्राथमिकता है कि ईमानदारों को संरक्षण कैसे मिले

- चर्चा स्वाभाविक है कि अब बेईमानों का क्या होगा? ऐसे में कानून अपना काम करेगा। सरकार की प्राथमिकता है कि ईमानदारों को संरक्षण कैसे मिले

- सरकार को मिली जानकारी के मुताबिक देश नें सिर्फ 24 लाख लोग मानते हैं कि उनकी आय 10 लाख रुपये से ज्यादा है

- बड़े नोट गरीबों का हक छीन रहे थे

- दिवाली के बाद की घटनाओं से यह सिद्ध हो चुका है कि लोग करप्शन के घुटन से मुक्त होना चाहते हैं

- देशवासियों ने जो कष्ट झेला है वह भारत के भविष्य की मिसाल है

- बीते कुछ सालों में 500 और हजार के नोट महंगाई और कालाबाजारी बढ़ा रहे थे

- बहुत से देशवासियों ने मुझे चिट्ठियां लिखीं और अपना दर्द साझा किया

- सरकार ने संबंधित लोगों से बैंकिंग व्यवस्था को सामान्य करने के लिए कहा है

- भ्रष्टाचार और जाली नोटों के खिलाफ लड़ाई में आप साथ है

- बीते दिनों अपना ही पैसा निकालने के लिए आप लोगों को घंटो लाइन में लगना पड़ा औऱ परेशानी उठानी पड़ी

- अच्छाई के लिए होने वाले आंदोलनों में जनता आमने सामने होते हैं, लेकिन इस आंदोलन में सरकार और जनता दोनों कंधे से कंधा मिलाकर लड़ाई लड़ रहे हैं

- देशवासियों के धैर्य से शुद्धि यज्ञ चला

- मुसीबत की घड़ी में देशवासियों ने धैर्य से काम किया

- कालेधन, भ्रष्टाचार को घुटने टेकने पर ईमानदार देशवासियों ने मजबूर किया

- ऐसी घुटन से मुक्ति की तलाश में थे देशवासी

- अपने घर की विकृतियों और बुराइयों के खिलाफ लड़ने के लिए तैयार हुए देशवासी: पीएम मोदी

- कालेधन, भ्रष्टाचार को घुटने टेकने पर ईमानदार देशवासियों ने मजबूर किया

- कुछ बात है कि हस्ती मिटती नहीं हमारी, देशवासियों ने इसे जीकर दिखाया है

- सच्चाई और अच्छाई हमारे देश के लोगों के लिए बहुत महत्व रखती है

- अपने घर की विकृतियों और बुराइयों के खिलाफ लड़ने के लिए तैयार हुए देशवासी