कट्टर आतंकवाद को मिलकर तबाह करेंगे मोदी- नेतन्याहू

जेरूशलम (5 जुलाई): प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के इजरायल दौरे के दूसरे दिन दोनों देशों के बीच 7 समझौतों हुए। इन समझौते के बाद पीएम मोदी और प्रधानमंत्री नेतन्याहू ने साझा प्रेस कॉन्फ्रेंस कर आतंकवाद के खिलाफ मिलकर लड़ने की बात कही। प्रधानमंत्री मोदी ने संयुक्‍त बयान में कहा कि हमारी बातचीत में सिर्फ द्विपक्षीय मुद्दों पर ही चर्चा नहीं हुई, बल्कि इस पर भी बात हुई कि किस तरह हमारा सहयोग वैश्विक शांति और स्थिरता लाने में मदद कर सकता है। इजरायल कृषि, जल एवं नई खोजें करने में अग्रणी देश है। प्रधानमंत्री (नेतन्‍याहू) और मैं, हमारे रणनीतिक हितों की रक्षा करने पर सहमत हुए हैं। उन्होंने कहा कि हम आतंकवाद और कट्टरवाद के खिलाफ साथ खड़े होंगे। हमारे समझौते विश्व शांति के लिए हैं। हम कट्टरवाद के खिलाफ मिलकर काम कर सकते हैं। साथ ही उन्होंने कहा कि नेतन्हायू और मैं अपने सामरिक हितों के लिए सहयोग करने को प्रतिबद्ध हैं।

वहीं इजरायली पीएम बेंजामिन नेतन्याहू ने कहा कि दोनों देशों के रिश्‍ते ‘वैवाहिक संबंधों’ जैसे हैं। यह (भारत-इजरायल रिश्‍ता) स्‍वर्ग में बनी शादी है लेकिन हम इसे यहां धरती पर लागू कर रहे हैं। नेतन्याहू ने कहा कि यह मेरे लिए बेहद भावुक पल है। हम इतिहास बना रहे हैं। हम आतंकी ताकतों की चुनौती का सामना कर रहे हैं। हमने इस क्षेत्र में काम करने पर सहमति बनाई है।

PM पीएम मोदी की बड़ी बातें...

- दोनों तरफ से कारोबार में बढ़ावा देने का प्रयास किया जाएगा

- हम आतंकवाद और कट्टरवाद के खिलाफ साथ खड़े होंगे

- हमारे समझौते विश्व शांति के लिए हैं। हम कट्टरवाद के खिलाफ मिलकर काम कर सकते हैं

- नेतन्हायू और मैं अपने सामरिक हितों के लिए सहयोग करने को प्रतिबद्ध हैं

- नेतन्याहू की कई बातों ने मुझे प्रभावित किया

- जल प्रबंधन के लिए हमारे बीच महत्वपूर्ण समझौता हुआ है

- कृ‍षि‍, जल के क्षेत्र में इजरायल की तकनीक काफी बेहतर है

- विकास के बारे में हमारे विचार एक जैसे हैं। यह हमारी दोस्ती को और मजबूत करता है

- आपके और श्रीमती नेतन्याहू द्वारा कराया गया डिनर यादगार रहेगा

PM नेतन्याहू की बड़ी बातें...

- पीएम मोदी यहां आकर एक इतिहास बना रहे हैं

- पीएम मोदी से हमारी कई मुद्दों पर बात हुई

- हमारी सोच मिलती है और हम भविष्य के लिए मजबूत योजनाएं बनाएंगे

- भारत-इजरायल मिलकर इतिहास रच रहे हैं

- यह संबंध स्वर्ग से ही बन गया था लेकिन हम इसे धरती पर चरितार्थ कर रहे हैं