VIDEO: एक बार फिर मोदी-नवाज होंगे आमने-सामने, दुनिया की होगी नजर

संजीव त्रिवेदी, नई दिल्ली (8 जून): आपसी तनाव के बीच भारत और पाकिस्तान के प्रधानमंत्री अगले दो दिन में एक ही छत के नीचे होंगे और सवाल उठ रहे हैं कि प्रधानमंत्री मोदी और पाकिस्तानी प्रधानमंत्री नवाज शरीफ क्या एक-दूसरे से हाथ मिलाएंगे। मौका है कजाख्स्तान की राजधानी अस्ताना में होने वाले SCO की बैठक का, जिसका सदस्य बनने के आवेदन के साथ ही दोनों देश अस्ताना में जमा हो रहे हैं। चीन की सरपरस्ती में चलने वाला SCO आतंकवाद से लड़ने के लिए बनाया गया है।

सरकार कहती है कि प्रधानमंत्री मोदी ने साफ दिल से शुरुआत की थी। तभी तो उन्होंने शपथग्रहण में नवाज शरीफ को बुलवाया और उनके बुलावे पर 25 दिंसबर 2015 को बिना कार्यक्रम मुकर्रर हुए पाकिस्तान चले गए। लेकिन चंद दिन बाद ही पठानकोट में हुए आतंकी हमले से लेकर हाल के दिनों में हुईं तमाम घटनाओं के बाद पाकिस्तान को लेकर सरकार दबाव में है।

अस्ताना में हो रही इस बैठक में भारत को औपचारिक तौर पर Shanghai Cooperation Cooperation SCO का सदस्य बनाया जाएगा, जिसका पहला काम है क्षेत्र में आतंकवाद से लड़ना। भारत ने कहा है कि भले ही वो पाकिस्तान को आतंक का पनाहगार मानता है, लेकिन UN की जरूरत हुई तो वो पाकिस्तान के साथ मिलकर SCO के झंडे तले आतंकवाद से लड़ सकता है।

वीडियो: