...तो इसलिए PM मोदी ने अमित शाह को सौंपा है गृहमंत्रालय का जिम्मा !

न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली (31 मई): प्रधानमंत्री मोदी ने अपने मंत्रालय का बंटवारा कर दिया है। प्रधानमंत्री मोदी ने अमित शाह को गृह मंत्रालय का जिम्मा सौंपा है। अब राजनाथ सिंह की जगह अमित शाह देश के नए गृहमंत्री होंगे। प्रधानमंत्री ने अमित शाह को ऐसे ही नहीं गृहमंत्रालय की जिम्मेदारी सौंपी है। बल्कि पीएम मोदी ने एक सोची समझी रणनीति के तरह अमित शाह को गृहमंत्रालय का जिम्मा सौंपा है। दरअसल आतंकवाद, नक्सलवाद समेत कई ऐसे मुद्दे हैं जिससे शख्ती से निपटना मोदी सरकार की पहली प्रार्थमिकता में शामिल है। वहीं बीजेपी के मेनिफेस्टो में कई ऐसी चीजें शामिल है जिसपर मोदी सरकार को अपने वादे के मुताबिक आगे बढ़ना है।

जम्मू-कश्मीर में धारा 35A और 370 पर वादा- जम्मू-कश्मीर से धारा 35A हटाने की कोशिश। धारा 35 A को जम्मू-कश्मीर के गैर स्थाई निवासियों और महिलाओं के लिए भेदभावपूर्ण। धारा 370 पर भी दृष्टिकोण को दोहराया गया है।

समान नागरिक संहिता- समान नागरिक संहिता को लागू किया जाएगा- इसे लैंगिक समानता से जोड़ा जाएगा- ट्रांसजेंडर्स को समाज की मुख्य धारा में लाने और सशक्तीकरण का वादा- पार्टी सर्वश्रेष्ठ परंपराओं से प्रेरित समान नागरिक संहिता बनाने के लिए कटिबद्ध है।

तीन तलाक पर रोक- तीन तलाक के विरूद्ध कानून बनाकर मुस्लिम महिलाओं को न्याय दिलाने का प्रयास किया जाएगा-  मोदी सरकार तीन तलाक मसले को लेकर पिछले दिनों भी बेहद सक्रिय दिखी- संसद और विधानसभाओं में महिलाओं को 33 फीसदी आरक्षण देने की बात

एक साथ चुनाव का संकल्प- देश में एक साथ चुनाव कराने पर विचार- इस पर पार्टियों के साथ बातचीत करने की कोशिश जारी रखेगीआपको बता दें कि बीजेपी के घोषणापत्र ('संकल्प पत्र') में  2022 के लिए बीजेपी ने अपने 75 संकल्पों को भी शामिल किया है। घोषणापत्र में मोदी सरकार की पिछले 5 साल की उपलब्धियों के आधार पर 2022 के लिए 75 टारगेट तय किए गए हैं।गौरतलब है कि अमित शाह को गृहमंत्री बनने का पहले से अनुभव रहा है। यह अलग बात है कि पहले वह अपने गृह राज्य गुजरात में गृहमंत्री थे। दरअसल, गुजरात में मुख्यमंत्री रहने के दौरान नरेंद्र मोदी ने अमित शाह को गृहमंत्री बनाया था। वह 2003 से 2010 तक इस पद पर रहे थे। इस प्रकार देखा जाए तो अब केंद्र में अमित शाह उसी भूमिका में आ गए हैं, जो भूमिका वह गुजरात में निभा चुके हैं। अंतर बस राज्य और केंद्र का है। आपको बता दें कि पांच बार विधायक रह चुके हैं। गुजरात के सरखेज विधानसभा सीट से जहां वह चार बार क्रमश: 1997 (उप चुनाव), 1998, 2002 और 2007 से विधायक बने, वहीं 2012 में नारनुपरा विधान सभा सीट से जीते थे। वहीं 2014 में राजनाथ सिंह के मोदी सरकार में गृहमंत्री बनने के बाद वह बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष बने। बाद में गुजरात से राज्यसभा सांसद हुए. इस बार 2019 के लोकसभा चुनाव में उन्होंने गांधीनगर सीट से साढ़े पांच लाख से अधिक वोटों से बंपर जीत हासिल की।