26/11 आतंकी हमले में जीवित बचे मोशे से मिले पीएम मोदी

जेरूशलम (5 जुलाई): अपने इजरायल दौरे के दूसरे दिन प्रधानमंत्री ने 26/11 मुंबई आतंकी हमले में जिंदा बचे मोशे से मिले।  इस मौके पर मोशे के साथ-साथ उसकी फैमिली भी थी। प्रधानमंत्री मोदी के साथ-साथ इजरायल के प्रधानमंत्री नेतन्याहू भी मौजूद थे। इस मौके पर मोदी की तरफ से मोशे को एक खास गिफ्ट भी दिया गया।

मोशे के बाबा ने प्रधानमंत्री मोदी का आभार व्यक्त किया और कहा कि जैसा प्यार आपने मोशे के लिए दिखाया, वैसे ही मोशे भी आपको प्यार करता है। मुलाकात के दौरान पीएम मोदी ने मोशे को भारत आने का न्यौता दिया, जिसके बाद इजरायली प्रधानमंत्री नेतन्याहू ने कहा कि वे मोशे को अपने साथ लेकर भारत आएंगे। मोशे के दादा-दादी ने भी इस दौरान मोदी से मुलाकात की। 

मोशे 26/11 आतंकी हमले में बच गया था, लेकिन उसके मां-बाप मारे गए थे, मोशे उस वक्त 2 साल का था। 10 साल के मोशे से मोदी की मुलाकात ने इस यात्रा को और भावुक बना दिया है 2 साल का मोशे होट्जबर्ग अब 10 साल का हो गया है। मोशे को मुंबई में 26 नवंबर 2008 को हुए उस आतंकवादी हमले की याद नहीं है। जब दहशतगर्दों ने मुंबई में यहूदियों के ठिकाने नरीमन हाउस में बेगुनाहों को मौत के घाट उतार दिया था। इसी में मोशे के मां बाप रिविका और गवराइल मारे गए थे।

मोशे अब मुंबई से करीब 4 हजार किलोमीटर दूर इज़राइल के तेल अवीव शहर में अपने नाना रोज़नबर्ग और नानी के साथ रहता है। मुंबई आतंकी हमलों के बाद मोशे अपनी नानी और नाना के साथ इज़राइल आ गया। उसके साथ उसकी देखभाल करने वाली उसकी नैनी सैंड्रा सैमुएल्स भी आ गई। सैंड्रा तब से लेकर अब तक इज़राइल में ही रहती है। जेरूशलम में काम करती है, लेकिन हर शनिवार को प्यारे मोशे को देखने ज़रूर आती है। मोशे अभी छोटा है, लेकिन सैंड्रा को लगता है कि बड़े होने पर मोशे को मुंबई के उस दर्दनाक वाकये के बारे में बताना होगा। जिसने उसके मां-बाप को उससे छीन लिया। फिलहाल, तो मोशे के घर में पीएम मोदी से मिलने की तैयारियां चल रही है। मोशे उत्साहित है। वो ये जानने को भी बेताब है कि मोदी उससे क्या बात करने वाले हैं।