News

कर्नाटक विधानसभा चुनाव: महिला कार्यकर्ताओं से बोले पीएम मोदी, महिलाएं जीत की कुंजी

कर्नाटक विधानसभा चुनाव में 10 दिन से कम का समय बाकी है। ऐसे में पीएम मोदी जमकर प्रचार में लग गए हैं। अपने अभियान को आगे बढ़ाते हुए पीएम मोदी ने शुक्रवार को नमो ऐप से सूबे की महिला कार्यकर्ताओं को संबोधित किया।

नई दिल्ली(4 मई): कर्नाटक विधानसभा चुनाव में 10 दिन से कम का समय बाकी है। ऐसे में पीएम मोदी जमकर प्रचार में लग गए हैं। अपने अभियान को आगे बढ़ाते हुए पीएम मोदी ने शुक्रवार को नमो ऐप से सूबे की महिला कार्यकर्ताओं को संबोधित किया।पीएम मोदी ने चुनावी जीत के लिए नया मंत्र देते हुए कहा कि महिलाएं ही सूबे में जीत की कुंजी हो सकती हैं। पीएम ने कहा कि कर्नाटक की महिला मोर्चा की नेताओं को उज्ज्वला योजना की लाभार्थी महिलाओं को लेकर रैली निकालनी चाहिए। पीएम ने बूथ मैनेजमेंट में महिलाओं की भूमिकाओं को रेखांकित करते हुए कहा कि महिलाओं के अंदर लोगों को समझाने की गजब की क्षमता होती है।पीएम ने शंघाई सहयोग संगठन में भारत की तरफ से शामिल हुईं सुषमा स्वराज और निर्मला सीतारमन को रेखांकित करते हुए कहा कि बीजेपी महिला फर्स्ट की नीति पर चलती है। इस दौरान उनकी तस्वीर भी ऐप पर दिखाई गई।शुक्रवार को पीएम मोदी ने एक बार फिर कर्नाटक विधानसभा चुनाव में नई रणनीति सेट करने की कोशिश की। इसके लिए उन्होंने नमो ऐप का सहारा लिया और सूबे में अलग-अलग जगहों पर बैठीं कर्नाटक महिला मोर्चा की कार्यकर्ताओं को एक साथ संबोधित किया। पीएम ने कहा कि 'आज देश महिला विकास से आगे महिला के नेतृत्व में विकास की बात कर रहा है। पार्टी भी इसी मंत्र में विश्वास रखती है। हमारे संगठन, सरकार में विमिन फर्स्ट है। कैबिनेट में सक्षम महिलाओं को प्रमुख मंत्रालय दिए गए हैं।' पीएम ने इस संदर्भ में SEO सम्मेलन से वायरल हुईं सुषमा और निर्मला सीतारमण की दो तस्वीरों का भी हवाला दिया। दरअसल SEO देशों के समिट में विदेश मंत्रियों में सुषमा स्वराज और रक्षा मंत्रियों में निर्मला सीतारमण अकेली महिला थीं।पीएम मोदी ने कहा कि किसी विधानसभा चुनाव को जीतने के लिए पोलिंग बूथ जीतना पड़ता है। उन्होंने महिला कार्यकर्ताओं से आह्वान किया कि लड़ाई जब बूथ पर लड़नी है तो घर-घर जाकर कर्नाटक के कांग्रेस सरकार के झूठे वादे, झूठे कारनामों का पर्दाफाश करना होगा। पीएम ने कहा, 'महिला मोर्चा की कार्यकर्ताएं इस मामले में सबसे अधिक प्रभावी होती हैं। महिला जब किसी को समझाने की कोशिश करती है तो घरेलू तर्क देती है। बड़ी-बड़ी बात नहीं करती है, वह विश्वास जीत लेती है। परिवार में अगर महिला सहमत हो जाए तो पूरा परिवार सहमत हो जाता है।' उन्होंने कहा कि महिला कार्यकर्ताओं को चाहिए कि वे उज्ज्वला योजना की लाभार्थी बहनों को लेकर रोज एक जुलूस निकालें।पीएम ने अपने संबोधन में केंद्र सरकार की तमाम महिला विकास योजनाओं का जिक्र किया। पीएम ने कहा कि सरकार ने बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ अभियान शुरू किया, जिसके परिणाम स्वरूप सेक्स रेशियो बेहतर हुआ है। 640 जिलों तक इसका विस्तार किया गया है। बैंक सुविधा से वंचित लोगों के लिए जनधन योजना शुरू हुई। करीब 16.5 करोड़ महिलाओं को इसका लाभ मिला है। स्टैंडअप इंडिया के अंतर्गत 8000 करोड़ से अधिक का लोन, राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन के तहत महिला सेल्फ हेल्प ग्रुप में 175 फीसदी की बढ़ोतरी की गई है।पीएम ने कहा कि मुद्रा योजना में 9 करोड़ महिलाओं को मुद्रा लोन का लाभ मिला है। वर्क प्लेस पर महिलाओं को भागीदारी सुनिश्चित करने के लिए मैटरनिटी लीव को 12 हफ्तों से बढ़ाकर 26 हफ्ते किया गया है। पीएम मोदी ने महिला कार्यकर्ताओं से आग्रह किया कि इन योजनाओं को लेकर डोर टू डोर कैंपेन करें और लोगों को समझाने की कोशिश करें।


Get Breaking News First and Latest Updates from India and around the world on News24. Follow News24 and Download our - News24 Android App . Follow News24online.com on Twitter, YouTube, Instagram, Facebook, Telegram .

Tags :

Top