पाक को मुंहतोड़ जवाब देने के लिए मोदी सरकार ने की खास तैयारी !

नई दिल्ली ( 2 नवंबर ) : अन्तरराष्ट्रीय सीमा पर और लाइन ऑफ कंट्रोल पर पाकिस्तान की ओर से सीजफायर उल्लंघन के लगातार मामलों से बढ़ते तनाव के बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार को एक हाई लेवल मीटिंग की। मीटिंग में गृह मंत्री राजनाथ सिंह, राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोवाल और रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर भी शामिल हुए। 

मीटिंग में सुरक्षा से जुड़े हालात की समीक्षा की गई। माना जा रहा है कि इस बैठक में आतंकियों की घुसपैठ की कोशिशों को बेहतर ढंग से नाकाम करने और पाकिस्तान को समुचित जवाब देने को लेकर रणनीति बनी।

बता दें कि सीजफायर उल्लंघन की वजह से सीमा से सटे गांवों में कई आम नागरिकों की जान जा चुकी है। सूत्रों के मुताबिक, सैन्य टकराव की वजह से आम लोगों को हो रहे नुकसान पर मोदी सरकार बेहद चिंतित है। वहीं, यह भी पता चला है कि घाटी में स्कूलों और अन्य शिक्षण संस्थानों को निशाना बनाए जाने को लेकर भी मीटिंग में चर्चा हुई। बता दें कि जहां अलगाववादी नेता घाटी में स्कूलों के खुलने नहीं दे रहे, वहीं कुछ लोगों ने कई शिक्षण संस्थानों में तोड़फोड़ और आगजनी की है। शोपियां में एक प्रिंसिपल के घर पर भी आगजनी की गई।

पाकिस्तान की तरफ से आम नागरिकों को निशाना बनाने के बाद लाइन आॅफ कंट्रोल से सटे गावों का खाली कराया जा रहा है। गांव लोगों को सुरक्षित स्थानों पर रखा गया है। 

बता दें कि पाकिस्तानी सेना ने जम्मू एवं कश्मीर के कई सीमावर्ती इलाकों में मंगलवार को मॉर्टार से भारी गोलों की बौछार कर दी थी, जिसमें पांच महिलाओं समेत आठ आम नागरिकों की जान चली गई थी। इसमें 15 अन्य घायल भी हुए थे। पाकिस्तानी सैनिकों की गोलाबारी और गोलीबारी की वजह से दर्जनों सीमावर्ती गांवों से लोग सामूहिक पलायन को मजबूर हो गए हैं। हाल के दिनों में भारत और पाकिस्तान के बीच तनाव बढ़ने और संघर्षविराम उल्लंघन के बाद पहली बार इतनी बड़ी संख्या में नागरिकों की मौत हुई है। वहीं, बीएसएफ ने कहा है कि पाकिस्तानी कार्रवाई का मुंहतोड़ जवाब दिया गया है और अंतरराष्ट्रीय सीमा पर उसकी 14 चौकियों को तबाह कर दिया गया है।