6 साल की इस बच्ची ने पीएम को लिखा ख़त, 15 दिन में फ्री हुई दिल के छेद की सर्जरी

पुणे (8 जून) :  पुणे के हड़पसर इलाके की छ वर्षीय वैशाली यादव ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को एक चिट्ठी भेजकर कहा- 'मोदी सरकार माला मदत पहिजे।' इस चिट्ठी को भेजने के एक हफ्ते बाद ही प्रधानमंत्री से उसे जवाब आ गया। यहीं नहीं पीएमओ ने डिस्ट्रिक्ट कलेक्टर को चिट्ठी भेजकर बच्ची की हर संभव मदद करने के लिए कहा। 15 दिन में ही इस बच्ची के दिल की फ्री सर्जरी भी हो गई है। बच्ची के दिल में छेद था। बच्ची के पिता मोनीष यादव पेंटिंग का काम करते हैं। आर्थिक स्थिति अच्छी नहीं होने की वजह से मोनीष बेटी के ऑपरेशन के लिए पैसे नहीं जुटा पा रहे थे।

पिता की माली हालत कमज़ोर

वैशाली जब छोटी थी तब उसकी मां उसे छोड़ गई। अब वह अपने अपने पिता के साथ रहती है। दो साल पहले वैशाली स्कूल में अचानक बेहोश होकर गिरी इसके बाद उसे डॉक्टर के पास ले गए तब डॉक्टर ने बताया था कि उसके दिल में छेद है ऑपरेशन करना जरुरी है। वैशाली के पिता और चाचा ने उसके इलाज के लिए कई एनजीओ और राजनीतिक पार्टियों से मदद के लिए गुहार लगाई लेकिन किसी से मदद नहीं मिली। 

विज्ञापन देखकर चिट्ठी लिखने का आइडिया आया 

पिता और चाचा की यह भागदौड़ देख रही वैशाली ने एक दिन टीवी पर मोदी सरकार का 'बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ' विज्ञापन देख पिता से नरेंद्र मोदी से चिट्ठी लिखने को कहा। फिर उसके चाचा ने वैशाली से कहा कि तुम अपने हाथों से चिट्ठी लिखो।

एक हफ्ते में ही पीएमओ से आया आदेश 

वैशाली ने 20 मई को वैशाली ने पीएम मोदी को लेटर लिखा। इसके साथ उसने अपनी स्कूल की आईडी और मोबाइल नंबर भी दिया था।  27 मई को पीएमओ ने यह लेटर देख पुणे के कलेक्टर सौरभ राव को इस बच्ची के इलाज को लेकर आदेश दिया।  इसके बाद प्रशासन के अधिकारी वैशाली के घर गए लेकिन उन्हें उसका पता नहीं चला। बाद में उसके स्कूल गए और वहां से उसका पता चला। वैशाली की औंध स्थित जिला सरकारी अस्पताल में जांच कराई गई। इसके बाद उसे 4 जून को रुबी अस्पताल में इलाज के लिए भर्ती कराया गया। जहां उसका ऑपरेशन हुआ। मंगलवार 7 जून को उसे डिस्जार्च कर दिया गया।

वैशाली और उसका परिवार प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तारीफ करते नहीं थक रहा।