मोदी बने 'डॉक्टर', ऐंटीबायॉटिक दवाओं को लेकर दी यह सलाह...

नई दिल्ली (31 जुलाई): प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी रविवार को 'मन की बात' की 22वीं कड़ी में देशवासियों से बेहद दोस्ताना अंदाज में मुखातिब हुए। पीएम ने लोगों को ऐंटीबायॉटिक दवाओं के अंधाधुंध इस्तेमाल से बचने की सलाह दी। इसके अलावा महिलाओं को भी स्वास्थ्य से जुड़ी कई जानकारियां दीं।

एंटीबायॉटिक दवाओं से बचने की सलाह 

- पीएम मोदी ने लोगों को ऐंटीबायॉटिक दवाओं से बचने की सलाह भी दी।  - मोदी ने कहा, "जिंदगी इतनी आपाधापी वाली बन गई है कि अपने लिए सोचने का वक्त नही होता है। हम तुरंत राहत पाने के लिए ऐंटीबायॉटिक दवाएं ले लेते हैं। यह आदत बहुत गंभीर संकट पैदा कर सकती है। डॉक्टरों की सलाह के बिना ऐंटीबायॉटिक दवाएं न लें। अनाप-शनाप ऐंटीबायॉटिक दवाओं से शरीर की प्रतिरोधक क्षमता खत्म हो जाती है।" - उन्होंने सुझाव दिया कि डॉक्टरों ने जितने दिन ऐंटीबायॉटिक लेने को कहा है, उतना ही लीजिए। जितनी गोली का कोर्स तय हुआ हो, उसे पूरा करें। ऐसा न करने पर मरीज को ही नुकसान होता है। 

गर्भावस्था के दौरान कराएं फ्री चेकअप

मोदी ने गर्भावस्था के दौरान होने वाली मौतों का भी जिक्र किया। मोदी ने कहा कि एक दशक में माता की मौत की दर में कमी आई है। उन्होंने कहा कि सरकार ने प्रधानमंत्री सुरक्षित मातृत्व अभियान चलाया है। इसके जरिए हर महीने की 9 तारीख को सभी गर्भवती महिलाओं की सरकारी अस्पताल में निशुल्क जांच की जाएगी। उन्होंने डॉक्टरों से अपील करते कहा कि वे साल में 12 दिन गरीबों के नाम कर दें।