'70-80 फीसदी गौरक्षक गोरखधंधा करने वाले'

नई दिल्ली (6 अगस्त): प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पहली बार शनिवार को 'टाउन हॉल' संवाद के लिए दिल्ली में इंदिरा गांधी इंडोर स्टेडियम पहुंचे। जहां उन्होंने गो-रक्षा के नाम पर हो रही हिंसा करने वालों पर पहली बार जमकर हमला बोला। 

पीएम मोदी ने बड़े साफ शब्दों में कहा कि उन्हें "गोरक्षा के नाम पर दुकानें खोलकर बैठे लोगों पर बहुत गुस्सा आता है।" उन्होंने कहा - 'काफी लोग हैं जो गो रक्षक हैं, वो गौ-रक्षा सिर्फ अपने काले धंधे छुपाने के लिए करते हैं।' 

उन्होंने कहा, 'गोरक्षा के नाम पर कुछ लोगों ने दुकानें खोल के रखी हैं। 70-80 फीसदी गोरक्षक गोधंधा करने वाले हैं।'' उन्होंने कहा कि "बहुत सारे ऐसे लोग हैं जो पूरी रात एंटीसोशल काम करते हैं, लेकिन दिन में अपना असली रूप छिपाने के लिए गोरक्षा का चोला ओढ़ लेते हैं।"

राज्य सरकारों से अपील करते हुए उन्होंने कहा, "मैं राज्य सरकारों से अनुरोध करता हूं कि जो गलत लोग गोरक्षा का चोला पहनकर बैठे हैं उनका डोजियर तैयार करें।"

कार्यक्रम में इससे पहले उन्होंने PMO एप का उद्घाटन किया। जो 10 भाषाओं में होगा। साथ ही इस एप को बनाने वाले युवाओं से मुलाकात की।

यह प्रोग्राम सरकार की MyGov वेबसाइट के लॉन्च होने के 2 साल पूरे होने पर हुआ। इस लाइव प्रोग्राम में उन्होंने जनता के सवालों का सीधे जवाब दिए।

PM मोदी के जवाब

गुड गवर्नेंस से जुड़े सवाल पर PM मोदी का जवाब

'जनभागीदारी वाला लोकतंत्र भारत के लिए बेहद जरूरी'

'जवाबदेही के साथ जिम्मेदारी गुड गवर्नेंस की नीति जरूरी'

'सोच समझकर बनाई योजना का लाभ नहीं मिलता, तो वह अस्थाई है'

'डेवलेपमेंट और गुड गवर्नेंस में समन्वय जरूरी'

'गुड गवर्नेंस पर बल नहीं देंगे तो सामान्य व्यक्ति के जीवन में बदलाव नहीं आएगा'

'देश में बदवाल लाने के लिए नीति-निर्णयों का जितना महत्व उतना ही उसके आखिरी लाभार्थी तक पहुंचने का है'

'सरकारों को अपने आपको बदलना होगा'

'जिसकी जिम्मेदारी हो उसकी जवाबदेही हो'

'टेक्नॉलॉजी के इस्तेमाल से गुड गवर्नेंस का रास्ता आसान हुआ'

'ई-मंडी शुरू करने से किसानों का फायदा हुुआ, अब किसान अपनी फसल का मूल्य खुद तय कर सकेंगे'

'लोकतंत्र में सबसे बड़ी ताकत है शिकायत निवारण की व्यवस्था, हर शिकायत का जल्द से जल्द निवारण होना चाहिए'

'जन शिकायत सुनवाई की उत्तम व्यवस्था होनी चाहिए'

अर्थव्यवस्था से जुड़े सवाल पर जवाब

'दो भयंकर अकाल और दुनिया में मंदी के बाद भी भारत की ग्रोथ 7.5 रही'

'प्राकृतिक संसाधनों का जितना इस्तेमाल होगा उतना विकास होगा'

'हजारों सालों पुरानी विरासत के बूते पर पर्यटन को बढ़ावा देकर अर्थव्यवस्था में योगदान मिलेगा'

'8% की ग्रोथ 30 सालों तक रहे तो दुनिया भारत के कदमों में'

स्वास्थ्य से जुड़े सवाल पर जवाब

'क्या कारण है कि पहले गांव में एक वैद्यराज होता था, पर पूरा गांव स्वस्थ रहता था?'

'वर्ल्ड बैंक के मुताबिक, 7,000 रुपया गरीब परिवार का बीमारी पर खर्च होता है'

'य़ोग, खानपान की आदतों पर ध्यान के साथ प्रवेन्टिव हेल्थ केयर पर बल देना होगा'

'स्वच्छ भारत अभियान से बीमारियां दूर भागेंगी'

'इंद्रधनुष कार्यक्रम से टीकाकरण को बढ़ावा दिया गया है'

'हेल्थ अश्योरेंस पर बल देकर अच्छे परिणाम आएंगे'

एग्रीकल्चरल सेक्टर से जुड़े सवाल पर जवाब

'परंपरागत कृषि से जुड़ा हुए हैं ज्यादातर किसान, इसे बदलना होगा'

'कृषि से जु़ड़े लोगों को आधुनिक खेती से जोड़ने का प्रयास किया गया'

'सॉइल हेल्थ कार्ड का बड़ा अभियान चला है, किसानों को इसकी शिक्षा दी जा रही है'

'अनाप-शनाप फर्टिलाइजर्स के उपयोग को बंद करने की दिशा में काम जारी'

'मल्टिपल क्रॉप्स, टिंबर की खेती को बढ़ावा दिया जाना चाहिए'

'किसानों को एग्रो इन्फ्रास्ट्रक्चर देने के लिए प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना जारी है।'

स्मार्ट सिटी से जुड़े सवाल पर जवाब

'देश में शब्दों की राजनीति आम हो गई है'

'स्मार्ट सिटी की बात करने पर स्मार्ट विलेज क्यों नहीं कर रहे ऐसी बातें उठने लगती हैं।'

'आत्मा गांव की, सुविधा शहर की,

'इसके लिए रर्बन योजना चालू की है'

'रर्बन मिशन के तहत 300 गांवों का विकास शहरों की तरह होगा। सारी सुविधाएं शहरों की होगी, लेकिन आत्मा गांव की ही रहेगी'

हैंडलूम- टेक्सटाइल सेक्टर से जुड़े सवाल पर जवाब

'सवा सौ करोड़ भारतीय अगर तय कर लें कि 5 फीसदी इन प्रोडक्ट्स पर खर्च करेंगे तो बेहतर परिणाम होंगे'

'हैंडलूम डे पिछले साल से शुरू किया गया है।'

विदेश नीति से जुडे़ सवाल पर जवाब

'आज पूरी दुनिया एक दूसरे पर निर्भर है, हर कोई हर किसी से जुड़ा है'

'विदेशनीति सिर्फ देश के हित की नीति है'

'दुनिया भर में बसे भारतीयों के लिए वहां की सरकारों में काफी आदर है'

'उनकी साख हमारी ताकत है'

'भारत लोकतांत्रिक मूल्यों से जु़ड़े देशों के साथ जुड़ रहा है'

पर्यटन से जुड़े सवाल पर जवाब

'ई-वीज़ा और स्वच्छता के चलते पर्यटन में बढ़ोतरी हुई है'

'भारत के पास ऐसी विरासत है, ऐसे स्वाद हैं जो दुनिया को पागल कर सकते हैं, उसकी बेहतर मार्केटिंग की जरूरत' 

'पर्यटन स्वभाव से भी जुड़ा विषय़ है, विदेश में रहने वाले भारतीय इसमें योगदान कर सकते हैं'

'काफी लोग हैं जो गो रक्षक हैं, वो गौ-रक्षा सिर्फ अपने काले धंधे छुपाने के लिए करते हैं।' 

'गोरक्षा के नाम पर कुछ लोगों ने दुकानें खोल के रखी हैं।'

'70-80 फीसदी गोरक्षक गोधंधा करने वाले'

[embed]https://www.youtube.com/watch?v=YhleRhdHS04[/embed]