पीएम मोदी के आर्थिक सलाहकार सुरजीत भल्ला ने भी दिया इस्तीफा

Image Source: Google

न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली (11 दिसंबर): कांग्रेस पार्टी लगातार भारतीय जनता पार्टी और पीएम मोदी पर आरोप लगाती आई है कि जब से बीजेपी सत्ता पर काबिज हुई है लगातार संवैधानिक संस्थाओं पर बैठे लोगों के ऊपर दबाव बढ़ा है। इतना ही नहीं कांग्रेस बीजेपी पर यहां तक आरोप लगाती आई है कि भाजपा देश की संवैधानिक संस्थाओं की आजादी और स्वायतता खत्म करने का काम कर रही है। कांग्रेस के इन आरोपों में कितना दम है इस बात का अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि देश में पिछले दिनों से जिस तरीके से संवैधानिक संस्थाओं से अधिकारियों ने इस्तीफा दिया वो कहीं न कहीं हैरान कर देने वाला है।

आरबीआई के गवर्नर उर्जित पटेल के बाद अब प्रधानमंत्री के आर्थिक सलाहकार परिषद सुरजीत भल्ला ने भी आज अपने पद से इस्तीफा दे दिया है। आपकी जानकारी के लिए बता दें कि सुरजीत भल्ला बतौर पीएम के आर्थिक सलाहकार पार्ट-टाइम काम कर रहे थे। हलांकि भल्ला के इस्तीफे के बाद कई बार ऐसी भी खबरें आई कि उनका इस्तीफा स्वीकार्य नहीं किया गया है। लेकिन अब इस पूरे मामले को लेकर पीएमओ ने साफ तौर से स्पष्ट किया है कि भल्ला ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया है। खबर के मुताबिक अपने पद से इस्तीफा देकर अब वो किसी दूसरे संस्थान में काम करने के लिए जा रहे हैं।

सुरजीत भल्ला एक अग्रेजी अखबार के लिए लेख लिखते हैं और हर लेख में अपने आपको पीएम मोदी का आर्थिक सलाहकार बताया करते थे। लेकिन आज यानि कि मंगलवार के दिन जब उनका लेख आया तो उन्होंने अपनी उस पहचान को छुपाय। इतना ही नहीं आपको ये भी बता दें कि सुरजीत भल्ला की लोगो के बीच में छवि एक सरकार के समर्थक के रुप में रही है।

 लेकिन, 1 दिसंबर को जो उन्होंने किया वो अपने आप में चौकाने वाला था। जी हां, 1 दिसंबर को भल्ला ने नीति आयोग पर तीखा हमला बोलते हुए सरकार की अप्रत्यक्ष रूप से कड़ी आलोचना की। मोदी सरकार पर निशाना साधते हुए भल्ला ने लिखा कि मैं और मेरे अलावा कई लोग मानते हैं कि नीति आयोग को एससीओ (सेंट्रल स्टैटिस्टिक ऑफिस) के डाटा आंकलन में सीधे तौर पर शामिल करना गैर-जरूर था। अब यहां पर समझना होगा कि आखिर सुरजीत भल्ला किस डाटा की बात कर रहे थे। दरअसल, भल्ला नीति आयोग के संबंध में उस डाटा की बात कर रहे थे, जिसमें केंद्र सरकार ने मनमोहन के पीएम रहते जीडीपी आंकड़ों की दोबारा समीक्षा कराई थी।