पीएम मोदी और राष्ट्रपति ट्रंप ने फोन पर की बात, आतंकवाद समेत कई मुद्दों पर की चर्चा

न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली (8 जनवरी): अमेरिका और भारत के बीच दोस्ती लगातार गहरी होती जा रही है। एकबार फिर प्रधानमंत्री और डोनाल्ड ट्रंप ने फोन पर बातचीत की और दोनों देशों के बीच मजबूत होते रिश्ते पर खुशी जताई। जानकारी के मुताबिक अमेरिका राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को फोन कर नए साल की शुभकामनाएं दी और रक्षा, आतंकवाद विरोधी कदमों और ऊर्जा के क्षेत्रों में बढ़ते द्विपक्षीय सहयोग को सराहा। इस दौरान दोनों नेताओं ने 2018 में भारत और अमेरिका के बीच रणनीतिक साझीदारी लगातार बढ़ने पर संतोष व्यक्त किया।

बताया जा रहा है कि डोनाल्ड ट्रंप ने नई 2+2 वार्ता व्यवस्था और भारत, अमेरिका एवं जापान के बीच पहले त्रिपक्षीय शिखर सम्मेलन की भी प्रशंसा की। दोनों नेताओं ने क्षेत्रीय एवं वैश्विक मामलों पर समन्वय के अलावा रक्षा, आतंकवाद रोधी कदमों और ऊर्जा के क्षेत्र में बढ़ते द्विपक्षीय सहयोग को भी सराहा। मोदी और ट्रम्प ने सोमवार शाम हुई वार्ता में 2019 में भारत-अमेरिकी संबंधों को और मजबूत बनाने तथा मिलकर काम करने पर सहमति जताई।  दोनों ने इंडो-पैसिफिक क्षेत्र में सुरक्षा और समृद्धि का विस्तार करने और अफगानिस्तान में आपसी सहयोग बढ़ाने पर चर्चा की।' साथ ही दोनों नेताओं ने दोनों देशों के बीच व्यापार घाटे को कम करने के तरीकों पर भी चर्चा किया। अमेरिका ने भारत से आयात होने वाले स्टील और एल्युमिनियम पर टैरिफ लगाए हुए हैं। ट्रंप ने ऐसा अमेरिका के व्यापार घाटे में कमी लाने और अमेरिकी विनिर्माण को बढ़ावा देने के लिए किया है। भारत ने जवाबी कार्रवाई करने की धमकी दी है लेकिन उसका कहना है कि वह इस महीने के आखिर तक कोई कदम नहीं उठाएगा।

अफगानिस्तान से ट्रंप 14,000 तैनात अमेरिकी सौनिकों में से 5,000 को वापस बुलाने पर विचार कर रहे हैं। अफगानिस्तान में तैनात कुछ सैनिकों को वापस बुलाने से अमेरिका का खर्च बचेगा जिसका इस्तेमाल वह अपनी परियोजनाओं को पूरा करने में लगाएगा। बता दें कि पिछले दिनों ट्रंप ने पीएम मोदी पर अफगानिस्तान को फंड देने पर तंज कसा था। ट्रंप ने कहा था, 'मोदी लगातार मुझे बता रहे थे कि उन्होंने अफगानिस्तान में एक लाइब्रेरी का निर्माण करवाया है। आप जानते हैं यह क्या है? यह ऐसा था जैसे हमने पांच घंटे बेकार कर दिए हों। और हमें आपसे कथित तौर पर कहना चाहिए कि लाइब्रेरी के लिए धन्यवाद। मुझे नहीं पता अफगानिस्तान में उसका प्रयोग कौन कर रहा है।' पीएम पर किए गए इस तंज पर विपक्ष ने मोदी का साथ देते हुए ट्रंप को करारा जवाब दिया था। कांग्रेस ने ट्रंप पर निशाना साधते हुए कहा था कि अफगानिस्तान में विकास कार्यों के संदर्भ में भारत को अमेरिका से उपदेश की जरूरत नहीं है। रणदीप सुरजेवाला ने ट्वीट कर कहा कि प्रिय ट्रंप, भारत के प्रधानमंत्री का मजाक बनाना बंद करिए। अफगानिस्तान पर भारत को अमेरिका के उपदेश की जरूरत नहीं है।