शिवसेना बोली- ट्रंप से सीखें पीएम मोदी

नई दिल्ली(12 दिसंबर): शिवसेना ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर निशाना साधते हुए कहा है कि क्या वह अमेरिकी राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप से सीख ले पाएंगे। ट्रंप ने हाल ही में कहा था कि वह अमेरिकियों की जगह विदेशी कर्मचारियों को नहीं लेने देंगे। शिवसेना ने अपने मुखपत्र सामना के संपादकीय में लिखा है कि मोदी को भूमिपुत्रों के लिए नौकरियों की रक्षा करने के लिए अमेरिका के राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप से सीख लेनी चाहिए और देश में भारतीयों के रोजगार छीन रहे पाकिस्तानी कलाकारों के खिलाफ कार्रवाई करनी चाहिए।

सामना में एक संपादकीय में लिखा गया, 'पाकिस्तानी कलाकार, टेक्निशन और टीवी से जुडे लोग दोस्ती और रिश्तों जैसे शब्दों को प्रचारित करते हुए धन कमाने के लिए भारत आते हैं। वे यहां के स्थानीय लोगों के रोजगार छीन लेते हैं।' संपादकीय में कहा गया, 'क्या भारत ट्रंप जैसी नीति लागू कर सकता है और यह कह सकता है कि पाकिस्तानियों को यहां रोजगार नहीं मिलेगा? क्या वह यह घोषणा कर सकता है कि जो भी पाकिस्तानियों को काम देगा, वह भारत का दुश्मन है?'

अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप ने हाल ही में कहा था कि वह अमेरिकी कर्मचारियों की जगह विदेशी कर्मचारियों को नहीं लेने देंगे। वह संभवत: डिज्नी वर्ल्ड और अन्य अमेरिकी कंपनियों की ओर इशारा कर रहे थे, जिन्होंने एच-1बी वीजा पर भारतीय, विस्थापित अमेरिकी कर्मचारियों जैसे लोगों को नियुक्त किया है।

शिवसेना ने कहा, 'जो ट्रंप जैसा व्यक्ति कर सकता है, उसे साहस और ज्ञान के लिए पहचाने जाने वाले प्रधानमंत्री तो निश्चित तौर पर कर सकते हैं'। शिवसेना ने दावा किया कि ऐसा लगता है कि अमेरिका में नौकरियां- सिर्फ भूमिपुत्रों के लिए के नारे के लिए ट्रंप ने बालासाहब ठाकरे से प्रेरणा ली है। संपादकीय में कहा गया कि ट्रंप के इस रुख का सबसे ज्यादा असर भारत पर पड़ने वाला है और यह देखना होगा कि मोदी सरकार ट्रंप से बात करके इससे कैसे निपटती है।

संयोगवश रविवार को बॉलीवुड के सुपरस्टार शाहरुख खान ने MNS के प्रमुख राज ठाकरे से अपनी आगामी फिल्म रईस के प्रदर्शन से पहले बात की। इस फिल्म में पाकिस्तानी अभिनेत्री माहिरा खान हैं। पाकिस्तानी कलाकारों के मुद्दे ने इस साल उस समय तूफान खड़ा कर दिया था, जब MNS ने पडोसी देश के कलाकारों को बॉलीवुड फिल्मों में लिए जाने पर आपत्ति जताई थी। उसने यह आपत्ति आतंकी हमलों में पाकिस्तान की संलिप्तता के चलते जताई थी।

अक्टूबर में, MNS ने फिल्मकार करण जौहर की 'ऐ दिल है मुश्किल' में पाकिस्तानी कलाकार फवाद खान को लिए जाने पर फिल्म के प्रदर्शन के खिलाफ भारी-भरकम विरोध प्रदर्शन किए थे, लेकिन बाद में मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस की मध्यस्थता के बाद फिल्म जगत से आश्वासन मिल जाने पर MNS ने विरोध प्रदर्शन से हाथ वापस खींच लिया था।