40 फीसदी लोग भी कैशलेस हो जाएं तो देश का हो जाएगा भला- पीएम मोदी

नई दिल्ली (16 दिसंबर): नोटबंदी के बाद प्रधानमंत्री मोदी और सरकार देशभर में कैशलेस ट्रांजेक्शन को बढ़ा देने में जुटी है। तमाम मौकों पर खुद प्रधानमंत्री लोगों से डिजिटल इकॉनमी को अपनाने और इसे अपना जीवनशैली बनाने की अपील कर रहे हैं।

प्रधानमंत्री मोदी का मानना है कि डिजिटल ट्रांजेक्शन और कैशलेस इकोनॉमी को बढ़ावा देने से देश में आमूलचूल परिवर्तन आएगा। इससे जहां कालेधन पर लगाम लग सकेगा वहीं भ्रष्टाचार भी कम होगा। साथ ही डिजिटलाइजेशन से नियत समय में लोगों का काम हो सकेगा। पीएम मोदी के मुताबिक अगर देश के 40 फिसदी लोग भी कैशलेस हो जाएं तो बड़ा बदलाव आ जाएगा और इससे देश का भला होगा।

 

 प्रधानमंत्री के नोटबंदी के फैसले के बाद उम्मीद जताई जा रही है कि इससे देश में भ्रष्टाचार पर अंकुश लग सकेगा और लालफीताशाही कम होगी। इसी कड़ी में आज बीजेपी संसदीय दल की बैठक को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि वो अफरशाही के जुल्म से देश को मुक्त करना चाहते हैं और इसके लिए वो लगातार कोशिश भी कर रहे हैं।

दरअसल नोटबंदी के प्रधानमंत्री के फैसले से लोगों को उम्मीद है कि देश में भ्रष्टाचार कम होगा और अफरशाही पर लगाम लगेगा। लेनदेन के साथ-साथ अन्य क्षेत्रों में लगातार हो रहे डिजिटलाइजेशन से उन्हें फायदा मिलेगा और उन्हें दफ्तरों के चक्कर नहीं काटने होंगे।

सरकार देशभर में कैशलेस इकोनॉमी यानी डिजिटल ट्रांजेक्‍शन को बढ़ावा दे रही है। सरकार इसके लिए आम लोगों के साथ-साथ व्यापारियों को तरह-तरह के ऑफर दे रही है।

बीजेपी संसदीय दल की बैठक को संबोधित करते प्रधानमंत्री ने कहा कि डिजिटलाइजेशन से व्यापारियों को लोन मिलना आसान हो जाएगा। और इससे महज 6 मिनट में ही व्यापारियों को लोन मिल सकेगा।

इससे पहले अपने इसी संबोधन में पीएम ने व्यापारियों को राहत देते हुए कहा था कि श्रम विभाग के अधिकारी व्यापारियों को नहीं परेशान करेंगे। उन्होंने कहा कि नोटबंदी से पहले के मामले में श्रम विभाग व्यापरियों को परेशान नहीं करेंगे और उससे पहले के मामले की जांच नहीं करेंगे। साथ ही उन्होंने कहा कि इसके लिए श्रममंत्रालय को निर्देश जारी कर दिए गए हैं।

साथ ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि व्यापारियों को किसी भी सूरत में परेशान नहीं किया जाएगा और इनकम टैक्स के अधिकारी 8 नवंबर से पहले के किसी भी लेनदेन की जांच नहीं करेंगे। साथ ही उन्होंने कहा कि इस संबंध में सरकार ने निर्देश भी जारी कर दिए हैं।

दरअसल व्यापारियों को डर सता रहा था कि नोटबंदी के बाद उनलोगों ने अपने खाते जो रकम जमा कराए हैं सरकार उसकी जांच करेगी और इस कड़ी में 8 नवंबर से पहले उनके द्वारा किए गए लेनदेन की भी जांच होगी। लेकिन पीएम मोदी ने व्यापारियों की इस आशंका को सिरे से खारिज कर दिया है।