PM मोदी ने BHU की तरफ से 'ऑनररी डॉक्ट्रेट' का प्रस्ताव नहीं कबूला

नई दिल्ली (19 फरवरी): प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बनारस हिंदू विश्वविद्यालय (बीएचयू)की तरफ से 'ऑनररी डॉक्ट्रेट' की डिग्री ग्रहण करने से इनकार कर दिया है। बताया जा रहा है उन्होंने इसके लिए 'इस तरह की डिग्रियां स्वीकार ना करने की नीति' का हवाला दिया है।

'इकॉनॉमिक टाइम्स' की रिपोर्ट के मुताबिक, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 22 फरवरी को बीएचयू के दीक्षांत समारोह के मौके पर आ रहे हैं। जिसके दौरान यूनिवर्सिटी ने उन्हें ऑनररी डॉक्ट्रेट ऑफ लॉ की डिग्री से सम्मानित करने का प्रस्ताव दिया था।

बीएचयू ने एक बयान में कहा, कि उन्होंने मोदी को डॉक्टर ऑफ लॉज़ (एलएलडी) देने का प्रस्ताव दिया था। इसके लिए प्रधानमंत्री से सहमति मांगी गई थी। लेकिन उन्होंने इसे स्वीकार करने से मना कर दिया।

रिपोर्ट के मुताबिक, यह पहली बार नहीं है जब मोदी ने डॉक्ट्रेट की डिग्री स्वीकार करने से इनकार कर दिया है। 2014 में अमेरिका के दौरे पर भी यूनिवर्सिटी इन ल्यूसियाना ने उन्हें ऑनररी डॉक्ट्रेट से सम्मानित करने का प्रस्ताव दिया था। मोदी को उनके सामाजिक परिवर्तन, विशेषकर महिलाओं के सशक्तीकरण और गुजरात के अल्पसंख्यकों के लिए योगदान के लिए दिया जाना था। जिसे उन्होंने स्वीकार करने से इनकार कर दिया। 

यहां तक कि मुख्यमंत्री रहने के दौरान भी कई यूनिवर्सिटीस के ऑनररी डॉक्ट्रेट की के प्रस्तावों से इनकार कर चुके हैं। 

(फाइल फोटो: PM नरेंद्र मोदी, AIIMS के दीक्षांत समारोह के दौरान)