News

महात्मा गांधी के 150वें जन्मदिन को लेकर सभी मुख्यमंत्रियों के साथ बैठक करेंगे पीएम मोदी

पीएम मोदी बुधवार को देश भर के मुख्यमंत्रियों समेत 114 नामचीन हस्तियों के साथ राष्ट्रपति भवन में बैठक करेंगे। बैठक में राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के 150 वे जन्मदिन को 2 अक्टूबर 2019 से 2 अक्टूबर 2020 यानि पूरे एक साल तक कैसे और किस भव्यता से देश विदेश में मनाया जाये इसकी रूपरेखा तय की जाएगी।

नई दिल्ली(1 मई): पीएम मोदी बुधवार को देश भर के मुख्यमंत्रियों समेत 114 नामचीन हस्तियों के साथ राष्ट्रपति भवन में बैठक करेंगे। बैठक में राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के 150 वे जन्मदिन को 2 अक्टूबर 2019 से 2 अक्टूबर 2020 यानि पूरे एक साल तक कैसे और किस भव्यता से देश विदेश में मनाया जाये इसकी रूपरेखा तय की जाएगी।एक साल जश्न मानाने के लिए प्रधानमंत्री के नेतृत्व में एक राष्ट्रीय समिति का गठन किया गया है। उसका बाकायदा गजट नोटिफिकेशन किया गया है। समिति में देश भर के गांधी संस्थानों के प्रमुख तो हैं ही पूर्व प्रधानमंत्री अटल विहारी वाजपेयी, मनमोहन सिंह, पूर्व पीएम देवेगौड़ा के साथ राजनाथ सिंह, सुषमा स्वराज, नितिन गडकरी, रामविलास पासवान समेत 9 केंद्रीय मंत्री, बीजेपी अधयक्ष , कांग्रेस अध्यक्ष, सभी मुख्यमंत्री, सियाराम सूटिंग सर्टिंग्स के मॉडल रहे हाल ही में दूसरी शादी कर गृहस्थ संत माने जाने वाले मध्यप्रदेश के उदय सिंह देशमुख जिन्हे अब भैय्यू जी महाराज के नाम से जाना जाता है उनके नाम के साथ श्री श्री रविशंकर, जग्गी वासुदेव, इस्लामिक स्कॉलर कल्बे सादिक़, सुलभ इंटरनेशनल के संस्थापक और मोदी सरकार के स्वच्छता मिशन के ब्रांड अम्बेस्डर बिनदेवशर पाठक के नाम उच्चस्तरीय राष्ट्रीय समिति में शुमार है।बसपा सुप्रीमो मायावती का नाम तो इस फेहरिस्त में है मगर सपा अध्यक्ष के रूप में अखिलेश यादव का नाम नहीं।  उनकी जगह उनके पिता  मुलायम सिंह यादव को न्योता भेजा गया है। आश्चर्यजनक रूप से दिल्ली की पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित अकेली ऐसी महिला पूर्व मुख्यमंत्री हैं जो कल राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद की अध्यक्षता में प्रधानमंत्री की अगुवाई वाली बैठक में शरीक होंगी।नौकरशाह के रूप में केवल संस्कृति सचिव को बुलावा भेजा गया है। बापू के नाम पर पूरे उत्सव को जमीन पर उतारने का काम संस्कृति मंत्रालय ही करेगा। बैठक के बाद मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़, राजस्थान के मुख्यमंत्रियों के साथ अलग से बैठक प्रस्तावित है। तीनो राज्यों में नवम्बर में चुनाव होने हैं। त्रिपुरा के मुख्यमंत्री बिप्लव देब को लगातार विवादित बयान देने का कारण प्रधानमंत्री कम बोलने की कड़वी दवा देंगे।मुख्य न्याधीश के विवाद के बाद पहली बार जिन्होने इम्पीचमेंट मोशन लाया है वो सब आमने सामने होंगे


Get Breaking News First and Latest Updates from India and around the world on News24. Follow News24 and Download our - News24 Android App . Follow News24online.com on Twitter, YouTube, Instagram, Facebook, Telegram .

Tags :

Top