मंच पर CM नीतीश के साथ नजर आए PM मोदी, बिहार में काम के लिए की तारीफ

पटना (12 मार्च): पीएम मोदी और सीएम नीतीश कुमार शनिवार को पटना में मंच पर एक साथ नजर आए। इसके बाद दोनों एक ही हेलीकॉप्टर से हाजीपुर रवाना हुए। यहां उन्होंने दीघा-सोनेपुर रेल-कम-रोड ब्रिज का इनॉगरेशन किया। इसी बीच जैसे ही नीतीश कुमार बोलने के लिए उठे, लोग मोदी-मोदी के नारे लगाने लगे। तभी पीएम मोदी उठे और लोगों को शांत रहने के लिए कहा।

पीएम मोदी ने हाजीपुर में दीघा-सोनपुर रेल-रोड पुल का उद्घाटन किया। हाजीपुर में ब्रिज का उद्धाटन करने के बाद मोदी ने कहा कि यह प्रोजेक्ट तब शुरू हुआ था जब अटलजी पीएम थे और नीतीश जी रेल मिनिस्टर थे। आज ये बनकर पूरा हुआ है। इसके बाद मोदी ने पाटलिपुत्र से लखनऊ के लिए नई ट्रेन को हरी झंडी दिखाई। अंत में राजेंद्र पुल (मोकामा) के पास नए रेल पुल का शिलान्यास किया गया। पीएम मोदी ने कहा कि पिछले 10 साल में पुलों के काम की अनदेखी की गई, लेकिन पिछले 18 महीनों में पुल का काम सबसे अधिक हुआ। 

पीएम ने कहा कि पूर्वी भारत को आगे बढ़ाए बिना देश का विकास नहीं हो सकता। इसके लिए केंद्र और राज्य को एक साथ काम करना होगा। उन्होंने कहा कि पिछली सरकार ने रेलवे पर 5 साल में जितना खर्च नहीं किया उससे 2.5 गुणा अधिक खर्च वर्तमान सरकार ने 18 माह में किया है।

पीएम ने कहा कि भारत का विकास बिहार के बिना नहीं हो सकता। अगर भारत का भाग्य बदलना है तो बिहार का भाग्य बदलना होगा। बिहार को दो बड़ा तोहफा मिला है। दो रेल कारखाना बिहार में लगने वाला है। इनसे 40000 करोड़ रुपए का फॉरेन डायरेक्ट इन्वेस्टमेंट होगा।

पीएम मोदी ने 1000 दिनों में बिहार के 6000 गांवों में बिजली पहुंचाने के काम पर नीतीश कुमार को धन्यवाद दिया। पीएम ने कहा कि हमारा लक्ष्य 18000 ऐसे गांवों में बिजली पहुंचाना है जहां 70 साल बाद भी लोग अंधेरे में हैं। लेकिन यह तभी संभव है जब राज्य सरकार हमारा साथ दे।

हाजीपुर में मोदी की रैली में शत्रुघ्न सिन्हा शामिल नहीं हुए। दरअसल, शत्रुघ्न की भाभी शीला सिन्हा की गुरुवार को मौत हो गई थी। यही कारण रहा की वे मोदी के प्रोग्राम में नहीं पहुंचे।