अब नहीं बच पाएगा पाकिस्तान, मोदी को ब्रिक्स में मिली यह बड़ी सफलता

नई दिल्ली (16 अक्टूबर): गोवा में हुए ब्रिक्स सम्मेलन में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को जो सबसे बड़ी कामयाबी मिली वह पाकिस्तान को आतंकवाद के मुद्दे घेरते हुए चीन को अपने साथ मिलाना है। पीएम मोदी ने ऐसी चाल चली कि चीनी राष्‍ट्रपति शी जिनपिंग भी आतंकवाद की आलोचना करने पर मजबूर हो गए।

पीएम मोदी ने चीन की मौजूदगी में घोषणा पत्र में ये भी लिखा गया कि जो देश आतंकवाद को पनाह देते है (जैसे पाकिस्तान) कार्यवाही उनके खिलाफ भी होनी चाहिए। पाकिस्तान पर निशाना साधते हुए गोवा घोषणा पत्र में सदस्य देशों द्वारा अपनी जमीन का आतंकी गतिविधियों के लिए इस्तेमाल नहीं होने देने का भी संकल्प लिया गया।

प्रधानमंत्री ने कहा कि आतंकवाद को खत्म करने के लिए ब्रिक्स देशों को एक साथ काम करने की जरूरत है और हमें प्रभावी रूप से काम करना होगा। पीएम मोदी ने कहा कि हम इस बात पर सहमत हुए हैं कि जो लोग आतंकवाद को बढ़ावा देते हैं, उसे पनाह देते हैं और हिंसक ताकतों का समर्थन करते हैं वे आतंकवादियों की तरह ही हमारे लिए खतरा हैं।

उन्होंने कहा कि हम सभी इस बात पर एकमत थे कि आतंकवाद, उग्रवाद और कट्टरपंथ सभी खतरा हैं। शांति और सुरक्षा के मुद्दे पर ब्रिक्स देशों ने परामर्श और सहयोग को मजबूत करने की प्रतिबद्धता जाहिर की है।